वोडाफोन और आईडिया चेंज | क्या VI एक सिम कार्ड है?

अगर आप VI sim card के बारे में पूरी जानकरी चाहते है तो आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़े, इस आर्टिकल में VI sim card से रिलेटेड पूरी जानकरी दी है.

वोडाफोन और आईडिया चेंज

VI sim card in Hindi

VI – New Mobile Operator! Vodafone Idea Rebrand in India

दोस्तों, vodafone idea एक नया ब्रांड बन गया हैं जिसका नाम है VI (VI sim card in Hindi), जैसे Jio और Airtel है वैसे ही VI भी एक common ब्रांड बन चुका है अगर आपके vodafone या idea की सिम है तो इनमे आगे क्या क्या changes होने वाले हैं और आगे telecom industry में क्या होने वाला है इस बारे में आज हम आपको पूरी जानकारी देंगे.

Vodafone idea struggle कर रहा था क्युकी vodafone और idea अलग-अलग entity चल रही थी दोनों के towers भी अलग थे vodafone और idea की companies हैं 2018 में लिमिटेड के अंदर हो मर्ज हो गयी थी but अभी तक इनकी सारी सभी चीजे अलग-अलग चल रही थी इनके promotion, shops और सिम भी अलग चल रही थी.

अब इन सब को मिला कर एक नया ब्रांड VI के नाम से बना दिया गया है तो यहाँ पर अगर आप इंडिया की vodafone की website open करते हैं तो automatically ये myvi.in पर ले आएंगे और आपको बतायेंगे की vodafone और idea एक हो चुका है इसीतरह अगर आप idea की website open करेंगे तो ये भी redirect हो जायेंगी.

आज के समय के अगर आपके पास vodafone या idea की सिम है तो थोड़े दिनों में उसके अंदर भी Vi लिखा जायेगा जहाँ पर लिखा आता है कि आपके नेटवर्क में vodafone का है या idea का उसके बाद आपकी सभी सिम भी Vi के नाम से issue होंगी.

आपको ads भी Vi के नाम से देखने को मिलेंगे और आपके पास जो पुरानी सिम है पुराने apps use कर रहे हो वो सब हटाकर अब आपको Vi के app install करना पड़ेगा Vi की website से ही आपके prepaid और postpaid नंबर रिचार्ज कर सकते हो दोनों मिलकर इंडिया में एक नई company आ गयी है जिसको Vi नाम दिया गया है.

इनको दो साल क्यों लग गये? तो जैसे ही jio की entry हुई थी उसके बाद vodafone idea दोनों धीरे-धीरे खत्म होने लगे आज भी अगर आप देखोगे तो 40 करोड़ इनके पास यूजर base था और धीरे-धीरे कम होते होते 28 करोड़ बचा है.

उन्होंने सब अच्छे सो सोचा तो था लेकिन बीच में AGR आ गया था तो हर company को पुराना बहुत सारा बकाया देना था तो सुप्रीमकोर्ट का निर्णय आया था उसके हिसाब से इन्हें 1 से 2 महीने में ही सारा बकाया पैसा देना था.

vodafone idea की बात करें तो इनको 58000 करोड़ रूपये देना था इनके पास पैसा था ही नही तो जैसे तैसे बहुत सारी सुनवाईं के बाद finally सुप्रीमकोर्ट ने नोल कि इक्कठा 1 से 2 महीने में हमको पैसा न दो आपको हम 10 साल का time देते हैं आप हमे installment में दे देना था तो पर year के हिसाब से अगर आप अब देखोगे तो ये 8000 करोड़ दे चुके है.

और 50000 करोड़ देना बाकि है तो 10 साल के हिसाब से देखें तो हर साल 5-5 हजार करोड़ रूपये देते रहेंगे तो इस हिसाब से इनको एक लाइफ line मिल गयी पूरे business मॉडल को extend करने के लिए ,अब इनको पैसे 10 साल में देने हैं तो अब ये 10 साल मे तो पैसा serve कर सकते हैं.

किसी भी तरह इकट्ठा कर सकते हैं अभी अभी news भी आई है कि vodafone idea के अंदर amazon और बाहर की companies हैं वो पैसा लगाने को तैयार हैं आपने देखा होगा jio के अंदर Facebook, google, Microsoft किसी भी company को नही छोड़ा सबने इतना ज्यादा investment कर दिया कि jio के पास एक भी रूपये का लोन नही है.

उसके पास जो भी पैसे हैं वो उसके खुद के हैं उसे किसी का लोन नही चुकाना है अब vodafone idea की बात करें तो इनके पास एक लाख करोड़ रूपये का कर्ज है उसमे से 50 हजार करोड़ तो अलग से government को देना है तो इनके पास पैसे की बहुत दिक्कत है.

लेकिन अब मर्ज करने के बाद अभी investment लायेंगे amazon ने इसमें पैसा लगाने को बोला है जैसे jio जिओमार्ट कर रहा है वालमार्ट भी कही न कही amazon से टक्कर कर रहा है तो हो सकता है आगे जाकर amazon vodafone idea का नेटवर्क use करके अपनी सारी services promote करे एक तरह से आप बोल सकते हैं.

कि सारी companies अलग-अलग operator को पकड़ कर अपना अपना काम कर रही हैं यूजर perspective से देखें तो आज की date में इंडिया में सिर्फ तीन ही company बची है Vi, Jio और Airtel.

आपको पता होगा कि jio बहुत ज्यादा investment ला रह है वो अलग ही एक इको system में जा रहा है.

वो ये चाहता ही कि हमारे ही apps use करें सब लोग हमारे ही app से chat करे, video करो, shopping करो सब कुछ हमारा ही होना चाहिये नेटवर्क से लाकर internet तक, internet से app तक, app से लाकर phone तक सब चीजें jio की ही हो. ये एक इको system बनाना चाहता है smart घर हो तो हमारा ही नेटवर्क हो सब कुछ हमारा ही हो.

और vodafone, idea और airtel ये आपस में jio से टक्कर कर रही है क्युकी इनके पास अभी बहुत सी चीजें आ गयी है jio की सबसे अच्छी बात है कि इसका base internet है क्युकी internet के ऊपर ही ये सभी चीजें चलेंगी कल को अगर आप बोलो कि whatsapp, facebook चलाना है.

तो चलाओगे तो किसी न किसी internet पर ही jio तो पहले से ही internet company बना बैठा है इसके बाद इसकी जो खुद की myjio की app है उसके 100 million से ज्यादा install हैं अगर jio कोई app launch करे तो जो 100 million लोगो ने myjio app लगा के रखा है.

VI sim card in Hindi

सबको बस एक notification ही भेज दे कि मेरी एक नई app jiomart या jio health आ गयी है तो automatically इतने सारे ordinance है net भी उसी का use कर रही है तो सभी चीजें इनकी खुद की है तो jio उसी vision पर चला रहा है और vodafone idea थोड़ा survive कर रहा था.

अब दोनों के मर्ज होने के बाद ये advertisement भी Vi के नाम से करेगा सब कुछ अब Vi के नाम होगा अब यहाँ पर वो बोलेंगे कि तीन ही company थोड़े ही है BSNL MTNL companies भी है ये है या नही है ये इन लोगों को क्या फर्क पड़ता है, क्युकी जब तक आपके घर पर नेटवर्क आता है.

तब तक तो ठीक है innovations नही आ रहे है ये एक तरह से सरकारी company बन कर ख़त्म हो जाएगी रुकी हुई है अब बंद तो नही होंगी क्युकी जितने भी पीओ में offices है और सरकारी offices है सब में internet बीएसएनएल का ही चलता है.

और वो सिम भी बीएसएनएल की use करते हैं क्युकी सरकार अपना data private company के internet से access नही करती है इसी लिए ये अभी बची हुई है और At The end user बोले तो ये लोग हमें वो services provide नही कर पाएंगे जो services हमे private कंपनिया देंगी, तो घुमा फिरा कर इंडिया में तीन ही कंपनिया बची है.

वैसे आप कौन सी company चलाते हो अगर आप vodafone या idea वाले हो तो क्या VI में आप थोड़े दिन रुके रहोगे अगर आपके पास service या नेटवर्क नही आ रहा है तो इन्होने जो मर्ज किया है अब जो ये investment लायेंगे उससे हो सकता है.

ये services अच्छी करें competitor बनें ये तीनों company अब compete करेंगे बीच में लगा रहा था कि अब jio आ गया है jio ने पहले free बोला फिर पैसे बढाये फिर i मिनट के 6 पैसे और बढ़ा दिये लेकिन अब vodafone और idea मिलकर वापस से competition create करता है लग रहा है कि ये बाहर की कंपनियों से investment ला सकता है.

अब देखने वाली बात ये होंगी कि आपस में ये तीनों company क्या चीजें देती है कल को अगर vodafone idea कुछ ऐसी चीज दे जो jio airtel नही दे पा रहे हों तो घूमफिर कर ordience इसके पास ही जायेंगे तो 5G का जमाना है jio के जितने भी टावर है.

वो by default supported है तो इनमे जितनी lines बिछाई है उनको कुछ नही करना है hardware और software उनका complete है सब कुछ 5G के लिए लेकिन vodafone idea या airtel है तो इनको 5G के हिसाब से अपना थोड़ा investment करना पड़ेगा तो अब देखने वाली बात ये होंगी कि आगे जाकर telecom industry में क्या होगा.

लेकिन हाँ आज की date में जितना भी data हमको जिस रूपये में मिल रहा है वो बहुत ही सस्ता होगा आगे जाकर data के prices increase होंगे क्युकी हर company के पास लोन है हर company को पैसा चुकाना है AGR भरना है और company के पास revenue का मॉडल नही है इसीलिए airtel वाले भी बोल रहे थे.

सौ रूपये में 1GB देंगे ऐसा नही है कि बोल दिया इतना ही देंगे इनको भी पता है कि हमने अगर बोला तो सारे लोग उठकर इन दोनो मे sift हो जायेंगे तो ये आपने लोग खराब नही करेंगे जो भी होगा जो भी होगा तीनो company आपस में बैलेंस करके ही करेंगी visual understanding से ही करेंगी.

आखिर आप कौन सी सिम use करते है और आप क्या चाहते है कि data का price increase होगा तो क्या broadband पर sift करेंग क्युकी jio फेवर तीस दिन free ले आया है jio जब launch हुआ था तो बताया गया था कि ये बहुत अच्छा है लेकिन ये भी बेकार निकला फिर से इसको सही किया जा रहा है.

हमारी ये जानकारी (VI sim card in Hindi) आपको कैसी लगी हमें comment करके जरुर बताइयेगा और इसी के साथ हम उम्मीद करते हैं.

कि हमारा ये article आपके ( (VI sim card in Hindi)) उसेर्फुल रहा होगा और आपको पसंद ही आया होगा.

I hope guys like this VI sim card in Hindi.

इसे भी पढ़ें?

आईएएस की पावर क्या होती है

IPS Officer कैसे बनें

आईएएस और आईपीएस में कौन बड़ा है

PLC Programming in Hindi 

हेडफोन लगाना है खतरनाक

Spread the love

2 thoughts on “वोडाफोन और आईडिया चेंज | क्या VI एक सिम कार्ड है?

Leave a Reply

Your email address will not be published.