तिहाड़ जेल में फांसी कैसे दी जाती है? | कैसे दी जाती है फांसी?

tihar jail me fasi kaise di jati hai

जेल में बहुत से अपराधी ऐसे होते है जिन्हें फांसी की सजा दी जाती है लेकिन क्या आप जानते है कि तिहाड़ जेल में अपराधियों को फांसी कैसे दी जाती है अगर नही जानते हैं तो आज इस आर्टिकल में हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे.

तिहाड़ जेल में फांसी कैसे दी जाती है?

tihar jail me fasi kaise di jati hai

जल्लाद अपराधी को बांधता है?

जब अपराधी को जेल के फांसी के लिए ले जाया जाता है तब उसके हाथो को बांध दिया जाता है फांसी की सजा पाने वाले व्यक्ति के पैरों के नीचे सफेद रंग का घेरा खींचा जाता है जिससे जेल से लाये गये व्यक्ति को उस घेरे के अंदर ही खड़ा किया जा सके, उस घेरे के ठीक ऊपर एक फांसी का फंदा होता है जिसे बिना समय लगाये उस घेरे में खड़े अपराधी के गले में लटका दिया जाता है ये सभी काम जल्लाद के होते हैं अपराधी के पैर बांधते समय जल्लाद इस बात का बहुत ध्यान रखता है कि कही अपराधी उसे पैर से मार न दे.

अपराधी का मुँह क्यों ढक दिया जाता है?

जब अपराधी को जेल से फांसी घर में लाया जाता है तो फांसी घर में लाने से पहले ही अपराधी के चेहरे को काले कपड़े से ढक दिया जाता है जिससे आरोपी जल्लाद और फांसी को देखकर घबराये न, क्युकी ज्यादातर लोग जब अपनी मौत को नजदीक देखकर घबरा/डर जाते हैं आरोपी के साथ ऐसा कुछ न हो इसीलिये पहले ही उसके चेहरे को काले कपड़े से ढक दिया जाता है फांसी की सजा मिलने के पहले अगर कोई अपनी वसीहत लिखवाना चाहता है तो वसीहत लिखने की जिम्मेदारी फांसी घर में होने वाले मजिस्ट्रेट की होती है.

फांसी का सामान क्या होता है?

खटका, रुमाल, रस्सी, सफेद घेरा और रेत की बोरी आदि का फांसी के समय सबसे महत्वपूर्ण काम होता है जल्लाद अपनी भाषा में फांसी देने वाले लिवर को खटका कहता है खटका खींचते ही फांसी के सजा पाए अपराधी के नीचे का तख्ता दो हिस्सों में खुल कर कुएं के अंदर जाकर खुल जाता है और एक मामूली आवाज के साथ अपराधी का शरीर कुएं के अंदर गर्दन में गले फांसी के फंदे के सहारे झूलने लगता है फांसी के समय काला, लाल या सफेद रंग का रुमाल यूज किया जाता है एक रुमाल का इस्तेमाल फांसी की सजा पाए व्यक्ति के चेहरे को ढकने के लिए किया जाता है और दूसरा रुमाल जेलर जल्लाद के लिवर/खटका खींचने के इशारे के लिए यूज करता है क्युकी अगर जेलर जल्लाद को लिवर खींचने के लिए बोलेगा तो फांसी मिलने वाले इन्सान को पता चल जायेगा और इसकी वजह से वो घबरा जायेगा, इसीलिए लिवर खींचने के लिए रुमाल का यूज किया जाता है.

फांसी घर में रस्सियों की तख्त तीन होती है दो रस्सियों से एक ही तख्त पर दो अलग-अलग फांसी के फंदे बनाये जाते हैं जिससे अगर एक रस्सी काम न करे तो दूसरी रस्सी का इस्तेमाल किया जा सके.

मौत की सजा पाने वाले व्यक्ति जल्लाद को क्यों नही देख पाता है?

जल्लाद हमारी और आप सबकी तरह इन्सान ही होते है जिनका काम अपराधियों को मौत देना होता है यही कारण है कि कोई भी फांसी देने वाले व्यक्ति को देख नही पाता है.

फांसी तख्ते की लकड़ी की मुंह मांगी कीमत मिलती है?

जेल के बाहर फांसी के तख्त की लकड़ी की मुंह मांगी कीमत मिलती है ये बात जब तिहाड़ जेल के आला अफसरों को पता चली तो वो बहुत हैरान हो गये उन्हें शंका हुई कि कही कुछ पैसों के लालच में जेल के कर्मी फांसी के तख्ते की लकड़ी की काला बाजारी में न पड़ जाएँ क्युकी इससे उनकी बहुत बदनामी होगी, इसीलिए इस समस्या से निपटने के लिए एक समाधान निकाला गया, जेल प्रशासन ने रातों-रात लकड़ी के तख्तों को हटाकर लोहे के लगवा दिया गया ऐसा इसलिए किया गया क्युकी फांसी घर के रखरखाव की जिम्मेदारी दिल्ली सरकार की है.

रात में समय में फांसी घर के पहरेदार को थप्पड़ मरता है?

फांसी घर जैसे जगह की पहरेदारी करना आसान नही है कुछ लोगों का मानना है कि कुछ साल पहले तिहाड़ जेल के पहरेदार की फांसी घर की रखवाली की ड्यूटी लगी थी जब वो अकेले ड्यूटी कर रहा था तभी उसे नींद की झपकी आ गयी तो उसे ऐसा लगा कि उसे किसी ने थप्पड़ मार कर जगाया है ऐसा सिर्फ एक बार नही हुआ बल्कि बहुत बार ऐसी बाते सुनने में आई है लेकिन जेल के अधिकारी इन बातों पर विश्वास नही करते हैं.

वो कैसी कुआं है जिसमे लाश लटकती है?

फांसी घर की सेन्ट्रल जेल के अलग कोने में होता है जिससे वो सभी कैदियों की नजर में न आये, जेल के कोने में बने फांसी घर में एक सीमेंट का कुआं होता है कुएं में उतरने के लिए लगभग 3 या 4 सीडियां होती है गोलाई में इस कुएं में लगभग के अंदर लगभग 1 से डेढ़ मीटर की जगह होती है कुएं में एक साथ 2 से 3 आदमी खड़े हो सकते है कुएं के ऊपर लकड़ी का तख्ता बंद होता है जो बीच में दो हिस्सों में दिखाई देता है तख्ते को इस प्रकार बनाया गया होता है कि वो देखने में गोल दिखाई देता है.

तालिबान क्या है और क्या चाहता है? | What is taliban in hindi

ट्रेन के डीजल इंजन को बंद क्यों नही किया जाता है?

पानी से बिजली कैसे बनती है? | बिजली उत्पादन कैसे किया जाता है

Hair ट्रांसप्लांट कैसे किया जाता है? | Hair Transplant क्या है?

आज आपने क्या सीखा?

हमे उम्मीद है कि हमारा ये (tihar jail me fasi kaise di jati hai?)आर्टिकल आपको काफी पसंद आया होगा और आपके लिए बहुत ही यूजफुल भी होगा इसमें हमने आपको जेल में फांसी से रिलेटेड पूरी जानकारी दी है जैसे- जल्लाद अपराधी को बांधता है? अपराधी का मुँह क्यों ढक दिया जाता है? मौत की सजा पाने वाले व्यक्ति जल्लाद को क्यों नही देख पाता है? फांसी तख्ते की लकड़ी की मुंह मांगी कीमत मिलती है? रात में समय में फांसी घर के पहरेदार को थप्पड़ मरता है? वो कैसी कुआं है जिसमे लाश लटकती है? आदि,

हमारी ये (tihar jail me fasi kaise di jati hai) जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट करके जरुर बताइयेगा और ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर भी कीजियेगा.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.