SDM kaise bane | SDM के लिए अप्लाई कैसे करें?

SDM kaise bane in hindi

SDM kaise bane in hindi- SDM के बारे में आप सभी लोगों ने सुना होगा एसडीएम का पद डीएम से छोटा होता है. बहुत से लोग ऐसे होंगे जो एसडीएम बनना चाहते हैं इसीलिए आज इस आर्टिकल में हम आपको एसडीएम बनने से रिलेटेड पूरी जानकारी देंगे.

SDM का काम क्या होता है?

SDM का पूरा नाम सब डिविजनल मजिस्ट्रेट होता है इसे उपप्रभागीय न्यायाधीश कहा जाता है. एसडीएम के पद पर लगभग 4 साल काम करने के बाद आप ADM के पद पर प्रमोशन कर दिए जाते हैं और इसके कुछ ही साल के बाद आपका प्रमोशन ADM पद से डीएम के पद पर हो जाता है. इसके बाद आपका प्रमोशन करके किसी मंत्रालय में एडिशनल सेक्रेटरी और उसके बाद जॉइंट सेक्रेटरी बना दिया जाता है.

SDM kaise bane in hindi

एसडीएम का पद डीएम से छोटा होता है. एसडीएम का काम जिले के एक उपखंड को नियंत्रित करने का काम करता है. एसडीएम का काम अपने क्षेत्र में कानून व्यवस्था बनाये रखना, डीएम के निर्देशों का पालन करना, लोगों की समस्याओं को सुनना और हल करना, तहसीलदार और पटवारी के सरकारी कामों की जाँच करना होता है. भूमि से सम्बंधित सभी काम एसडीएम में अंडर ही किये जाते है. इसके अलावा जो भी पंजीकरण होते है ये सभी काम एसडीएम के अंतर्गत किये जाते है.

लोकसभा, विधानसभा के चुनाव करना, सभी चल रहे विकास कार्यो का निरीक्षण करना और इस्तेमाल किये जाने वाले सामान की जाँच करना  और अपने क्षेत्र में कही बाढ़ या प्राकृतिक आपदा आ जाने पर उसकी सूचना अपने उच्च अधिकारियों को देने का काम एसडीएम का होता है.

SDM बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए?

एसडीएम बनने के लिए आपको 12th के बाद ग्रेजुएशन पास करना होगा, ग्रेजुएशन में चाहे आपने बीबीए, बीसीए, बीटेक, बीकॉम, बीएससी में से कोई भी कोर्स किया है और किसी भी सब्जेक्ट से किया है तो आप इसके लिए अप्लाई कर सकते हैं.

SDM बनने के लिए ऐज लिमिट क्या होनी चाहिए?

एसडीएम बनने के लिए आपकी ऐज 21 साल से 42 साल होनी चाहिए. इसमें ओबोसी केटेगरी के कैंडिडेट को 3 साल और एससी/एसटी केटेगरी के कैंडिडेट को 5 साल की छूट दी जाती है.

SDM बनने के लिए सिलेक्शन प्रोसेस क्या है?

आप दो तरह से एसडीएम बन सकते हैं पहला सिविल सर्विस एग्जाम जो UPSC द्वारा कंडक्ट किया जाता है इसे पास करने के बाद आप  आईएएस ऑफिसर बन जाते है और ट्रेनिंग पूरी होने के बाद आप एसडीएम बन जाते हैं, और दूसरा है पब्लिक सर्विस कमीशन के द्वारा, इसके लिए सभी राज्यों में अलग-अलग समय पर एग्जाम कराये जाते है जैसे- उत्तर प्रदेश में ये एग्जाम यूपीपीएससी द्वारा कंडक्ट किया जाता है.

इसके सिलेक्शन प्रोसेस में सबसे पहले प्रिलिमिनरी एग्जाम फिर मेन एग्जाम और लास्ट में इंटरव्यू लिया जाता है.

प्रिलिमिनरी एग्जाम

इस एग्जाम में ज्यादातर राज्यों में दो एग्जाम होते है लेकिन कुछ राज्य जैसे बिहार, राजस्थान में इसका एक ही एग्जाम होता है.

जनरल स्टडीज

ये पेपर 200 नंबर का होता है और 150 क्वेश्चन होते है, इसमें ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन पूछे जाते हैं और ये पेपर 2 घंटे का होता है. इसमें विज्ञान, पर्यावरण और परिस्थितिकी, सामयिकी, अर्थशास्त्र, सरकारी नीतियाँ और पहल, राजनीति, भूगोल, संस्थान अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध, आधुनिक इतिहास, मध्यकालीन इतिहास, कला और संस्कृति, और आजादी के बाद का इतिहास आदि से रिलेटेड क्वेश्चन्स पूछे जाते हैं.

सिविल सर्विस अप्टिट्यूड

ये पेपर भी 2 घंटे का होता है इसमें 200 नंबर के 100 क्वेश्चन होते हैं. इसमें भी ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन्स आते है और 1/3 नेगेटिव मार्किंग होते है. इसमें सिर्फ आपके जनरल स्टडीज के नंबर जोड़े जाते हैं क्युकी सिविल सर्विस अप्टिट्यूड टेस्ट क्वालीफाइंग पेपर होता है इसमें आपके 33% नंबर होना जरूरी है. इसमें 10th लेवल के क्वेश्चन पूछे जाते हैं जैसे- मैथ, इंग्लिश, हिंदी, सामान्य बौद्धिक योग्यता, लॉजिकल एंड एनालिटिकल एबिलिटी, डिसिशन मेकिंग एंड प्रॉब्लम सोल्विंग और कोम्प्रेहेंसिव से रिलेटेड क्वेश्चन्स पूछे जाते हैं.

मेन्स एग्जाम

प्रिलिमिनरी एग्जाम पास करने वाले स्टूडेंट ही मेन्स का एग्जाम दे सकते हैं. इसमें कुल 8 पेपर होते है जिसमे शोर्ट एंड लॉन्ग क्वेश्चन पूछे जाते हैं इसके सभी पेपर 3-3 घंटे के होते हैं इसमें जनरल हिंदी, एस्से, जनरल स्टडीज1, जनरल स्टडीज2, जनरल स्टडीज3, जनरल स्टडीज4 और 2 ऑप्शनल पेपर: पेपर1 और पेपर 2 होते हैं.

जनरल हिंदी

ये पेपर 3 घंटे का होता है और इस पेपर में 150 नंबर के सवाल पूछे जाते हैं ये एक प्रकार का क्वालीफाइंग पेपर होता है इसमें सरकारी और अर्द्ध सरकारी पत्र लेखन, तार लेखन, कार्यालय आदेश, अधिसूचना, परिपत्र, शब्द ज्ञान एवम् प्रयोग, उपसर्ग एवं प्रत्यय विलोम शब्द, वाक्यांश के लिए एक शब्द, वर्तनी एवं वाक्य शुद्धि और लोकोक्ति एवं मुहावरे से रिलेटेड सवाल पूछे जाते हैं.

एस्से

इस पेपर में कुल तीन खंड होते है और सभी खण्डों में 3 टॉपिक होते है इसमें कैंडिडेट को प्रत्येक टॉपिक पर 700-700 वर्ड का एस्से लिखना पड़ता है और तीनों खंड 50-50 नंबर के होते हैं ये एग्जाम भी तीन घंटे का होता है.

इसके पहले खंड क में साहित्य और संस्कृति, सामाजिक क्षेत्र और राजनैतिक क्षेत्र से रिलेटेड सवाल पूछे जाते है. दूसरे खण्ड ख में विज्ञान, पर्यावरण प्रद्योगिक, आर्थिक क्षेत्र, कृषि उद्योग और व्यापार से रिलेटेड सवाल आते हैं और इसके तीसरे खण्ड ग में राष्ट्रीय और अंतर राष्ट्रीय घटनाक्रम, प्राकृतिक आपदायें और राष्ट्रीय विकास योजनाओं से रिलेटेड क्वेश्चन्स आते हैं.

जनरल स्टडीज1, जनरल स्टडीज2 और जनरल स्टडीज 3

ये एग्जाम 200-200 नंबर के होते हैं. इनमें भारतीय इतिहास (प्राचीन, मध्यकालीन, आधुनिक), भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन और भारतीय संस्कृति, विश्व भूगोल, भारतीय भूगोल, प्राकृतिक संसाधन, वर्तमान घटनाएं, भारतीय कृषि, व्यापार और वाणिज्य, भारतीय राजनीति , भारतीय अर्थव्यवस्था, सामान्य विज्ञान, जीवन शैली और सामाजिक रीति रिवाज से सम्बन्धित क्वेश्चन्स आते हैं.

जनरल स्टडीज 4

इसमें एथिक्स (आचार-विचार) से रिलेटेड सवाल पूछे जाते हैं ये एग्जाम भी 200 नंबर का होता है.

ऑप्शनल: पेपर1 और पेपर 2

ये पेपर भी 200-200 नंबर के होते है इसमें टोटल 29 सब्जेक्ट होते हैं जिसमे से आपको कोई एक सब्जेक्ट चुनना होता है और उसी से आपके क्वेश्चन्स आते हैं.

इंटरव्यू

अगर आप मेन्स एक्साम्स को क्लियर कर लेते हैं तो आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है, इसमें आपकी नॉलेज और कॉन्फिडेंस को देखा जाता है. इंटरव्यू मे किसी सब्जेक्ट या फिर आपसे रिलेटेड सवाल पूछे जाते हैं जब आप इंटरव्यू क्लियर कर लेते हैं तो आपको आपकी रैंक और प्रेफरेंस के आधार पर लोक सेवा आयोग द्वारा अलग-लग पद पर नियुक्त कर दिया जाता हैं.

इसके बाद कैंडिडेट को अपनी पोस्ट पर काम करने के लिए ट्रेनिंग पर भेजा जाता है और उसके बाद किसी तहसील में नायब तहसीलदार के पद पर नियुक्त कर दिया जाता है. इसमें अगर कैंडिडेट की रैंक अच्छी है और टॉप लिस्ट में उसका नाम है तो उसे एसडीएम के पद पर नियुक्त कर दिया जाता है.

SDM की पोस्ट के लिए अप्लाई कैसे करें?

एसडीएम की पोस्ट पर अप्लाई करने के लिए आप अपने राज्य के लोक सेवा आयोग की वेबसाइट (uppsc.up.nic.in ) पर जाकर चेक कर सकते हैं इस वेबसाइट पर आपको आल वैकेंसी के ऑप्शन पर क्लिक करना है वहाँ पर आपको सभी लेटेस्ट वैकेंसी मिल जायेंगी, वहां पर जाकर आप वैकेंसी चेक कर सकते हैं और अप्लाई भी कर सकते हैं.

SDM की सैलरी कितनी होती है?

एसडीएम के पद पर काम करने वाले कैंडिडेट (SDM kaise bane in hindi) को पर मंथ 50 हजार से 1 लाख रूपये तक वेतन मिलता है. एक एसडीएम को सरकारी गाड़ी, बंगला, और सुरक्षा गार्ड मिलते हैं इसके साथ-साथ नौकरी की सुरक्षा और जीवनसाथी को पेंशन भी मिलती है.

इसे भी पढ़ें?

तहसीलदार कैसे बनें? | तहसीलदार के लिए अप्लाई कैसे करें?

NCC में फिजिकल टेस्ट कैसे होता है? | NCC में क्या होता है?

कमांडोज आर्मी की भर्ती कैसे होती है? | कमांडो में अप्लाई करें?

पुलिस भर्ती में NCC के फायदे क्या है? | What is NCC in hindi

आज आपने क्या सीखा?

हमे उम्मीद है कि हमारा ये (SDM kaise bane in hindi) आर्टिकल आपको बहुत पसंद आया होगा और आपके लिए काफी हेल्पफुल भी होगा इसमें हमने आपको एसडीएम बनने से रिलेटेड सभी जानकारी दी है जैसे- एसडीएम  का काम क्या होता है? एसडीएम बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए? एसडीएम बनने के लिए ऐज लिमिट क्या होनी चाहिए? एसडीएम बनने के लिए सिलेक्शन प्रोसेस क्या है? एसडीएम की पोस्ट के लिए अप्लाई कैसे करे? और एसडीएम की सैलरी कितनी होती है? आदि.

हमारी ये (SDM kaise bane in hindi) जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट करके जरुर बताइयेगा और ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ भी कीजियेगा.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.