सरकारी नौकरी में पुलिस वेरिफिकेशन कैसे होता है?

Sarkari naukari me police verification kaise hota hai

Sarkari naukari me police verification kaise hota hai- जब सभी आप किसी सरकारी नौकरी के लिए अप्लाई करते हैं तो आपको सरकारी नौकरी के लिए डाक्यूमेंट्स सबमिट करते समय पुलिस वेरिफिकेशन कराना पड़ता है आप में से कुछ लोगों के नही पता होगा कि ये पुलिस वेरिफिकेशन क्या होता है और कैसे किया जाता है इसीलिए आज इस आर्टिकल में हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे.

ऐसे कौन-कौन से केस होते है जिनके द्वारा आप सरकरी नौकरी में समस्यायें आ सकती है और आपको सरकारी नौकरी से रिजेक्ट भी किया जा सकता है?

किसी कैंडिडेट के खिलाफ सिर्फ एफआईआर होता या उसके खिलाफ चल रहे किसी केस के पेंडिंग में होने से सरकारी नौकरी पर कोई प्रभाव नही पड़ता है सरकारी नौकरी से आप तभी रिजेक्ट किये जा सकते हैं जब आप किसी केस में दोषी पाए गये हों और आपको सजा मिली हो जिसमे आपको 48 घंटे से ज्यादा समय तक जेल में रहना पड़ा हो तो ऐसी स्थिति में आपको सरकारी नौकरी से निकाला जा सकता है.

Sarkari naukari me police verification kaise hota hai
Image Credit: Shutterstock

इसके अलावा अगर कैंडिडेट पर कोई केस चल रहा है ज्सिमे 3 साल या उससे ज्यादा का प्रावधान है तो ऐसे कैंडिडेट को पुलिस और सेना की किसी भी नौकरी में नही लिया जायेगा और बहुत तो ऐसा होता है कि पुलिस किसी कैंडिडेट को बिना किसी केस के इसलिए गिरफ्तार पर लेती है क्युकी पुलिस को लगता है कि वह कैंडिडेट दंगा कर सकता है या किसी को उस कैंडिडेट पर किसी तरह का कोई संदेह होता है तो ऐसी स्थिति में क्युकी कैंडिडेट पर कोई केस नही होता है इसीलिए उसे सरकारी नौकरी मिलने में कोई दिक्कत नही आती है लेकिन इस तरह की कार्यवाही किसी व्यक्ति पर एकबार ही हो तो सही है लेकिन अगर उस कैंडिडेट को इस तरह एक से ज्यादा बार पुलिस ने गिरफ्तार किया है और थाने लेकर गयी है तो ऐसी स्थिति में भी कैंडिडेट को सरकारी नौकरी में समस्या आ सकती है.

एक्सीडेंट वाले मामले में भी अगर कैंडिडेट की गाड़ी से किसी की मृत्यु हो जाती है या दूसरी तरफ के लोग उस पर केस कर देते हैं तो इस स्थिति में भी पुलिस और सेना से जुड़ी नौकरी में भी कैंडिडेट को समस्यायें आ सकती है लेकिन किसी भी सिविल जॉब में कैंडिडेट को लिया जा सकता है.

अगर किसी कैंडिडेट पर कोई फेक केस चल रहा है किसी ने उसे झूठे केस में फंसा दिया है तो इस स्थिति में कैंडिडेट को एक सपथ पत्र बनवाकर उस पर पूरे केस का ब्यौरा लिखकर उसे डिपार्टमेंट में जमा कर सकता है जहाँ पर उसकी नौकरी लगी है. अगर आप पुलिस मे या किसी सकरी नौकरी में जाना चाहते है तो लड़ाई-दंगो से दूर रहे क्युकी एक केस आपकी पूरी लाइफ बर्बाद कर देगा.

इसे भी पढ़ें?

DSP का प्रमोशन कैसे होता है?

B.Com General कोर्स क्या है? | बीकॉम जनरल कोर्स में एडमिशन कैसे लें?

Adobe Creative Cloud क्या है?

WHO क्या है? | WHO का काम क्या होता है?

E.D क्या है? | What is E.D in hindi

आज आपने क्या सीखा?

दोस्तों, हमारी ये (Sarkari naukari me police verification kaise hota hai) जानकारी आपके लिए काफी यूजफुल होगी और आपको पसंद भी आई होगी, क्युकी आज इसमें हमने आपको सरकारी नौकरी में पुलिस वेरिफिकेशन के बारे में बताया है,  हमारी ये (Sarkari naukari me police verification kaise hota hai) जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट करके जरुर बताइयेगा और ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर भी कीजियेगा.

Spread the love

1 thought on “सरकारी नौकरी में पुलिस वेरिफिकेशन कैसे होता है?

Leave a Reply

Your email address will not be published.