पुलिस विभाग में कितने पद होते हैं? | पुलिस के पदों की जानकारी

police vibhag me kitne pad hote hai

Police vibhag me kitne pad hote hai- पुलिस के बारे में आप सभी लोग जानते हैं लेकिन आप में से कुछ लोग ऐसे भी है जिन्हें ये नही पता है कि पुलिस विभाग में कितने पद होते हैं इसीलिए आज इस आर्टिकल में हम आपको पुलिस में होने वाले सभी पदों के बारे में बतायेंगे.

Table of Contents

पुलिस विभाग में कितने पद होते हैं?

police vibhag me kitne pad hote hai

पुलिस विभाग में कई सारे पद होते हैं-

पुलिस कांस्टेबल

12th पास स्टूडेंट्स इस पोस्ट के लिए अप्लाई कर सकते हैं, इनके कंधे पर एक पट्टी होती है लेकिन इस पट्टी पर कोई स्टार नही लगा होता है. इस पद पर काम करने वाले कैंडिडेट की पर मंथ सैलरी 20 हजार से 40 हजार रूपये होती है.

सीनियर कांस्टेबल

इस पद पर आप पुलिस कांस्टेबल के पद से प्रमोशन लेकर ही जा सकते हैं. इनके कंधे पर एक पट्टी होती है लेकिन इस पट्टी पर कोई स्टार नही लगा होता है लेकिन साइड में दो सेवरोन लगी एक पट्टी होती है. इनकी पर मंथ सैलरी 32 हजार से 48 हजार रूपये होती है.

हेड कांस्टेबल

इन्हें हवलदार भी कहा जाता है कुछ राज्यों में आप सीनियर पद से प्रमोशन लेकर ही हेड कांस्टेबल बन सकते हैं लेकिन दिल्ली में इसके लिए डायरेक्ट भर्ती निकाली जाती है इनके कंधे पर एक पट्टी होती है लेकिन इस पट्टी पर कोई स्टार नही लगा होता है लेकिन साइड में तीन सेवरोन लगी एक पट्टी होती है. इस पद पर काम करने वाले कैंडिडेट की पर मंथ सैलरी 37 हजार से 54 हजार रूपये होती है.

असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर (सहायक उप निरीक्षक)

इस पद पर काम करने वाले कैंडिडेट को पुलिस चौकी या इन्वेस्टीगेशन सेंटर का इन्चार्ज बनाया जा सकता है. 5 से 7 साल हेड कांस्टेबल के पद पर काम करने के बाद प्रमोशन होने पर असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर बन सकते हैं. इनके कंधे पर 1 स्टार और लाल, नील रंग की दो पट्टी होती हैं. इन्हें पर मंथ लगभग 55 से 60 हजार रूपये सैलरी दी जाती है.

सब इंस्पेक्टर

सब इंस्पेक्टर एक पुलिस चौकी का इन्चार्ज होता है और वहां के सभी कामों को देखता है इन्हें दरोगा भी कहा जाता है. आप दो तरह से सब इंस्पेक्टर बन सकते हैं पहला डायरेक्ट भर्ती और दूसरा प्रमोशन से. दरोगा की भर्ती ग्रेजुएशन बेस पर भी की जाती है. एएसआई के पद से प्रमोशन होकर भी आप दरोगा बन सकते हैं. इनके कंधे पर दो स्टार होते हैं और लाल, नीले रंग की पट्टी होती है. इन्हें पर मंथ सैलरी लगभग 45 हजार से 70 हजार तक मिल सकती है.

असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर (सहायक पुलिस निरीक्षक)

यह पद महाराष्ट्र में होता है आप सब इंस्पेक्टर के पद से प्रमोशन लेकर असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर बन सकते हैं इनके कंधे पर 3 स्टार और एक लाल रंग की पट्टी होती है. इस पद पर काम करने वाले कैंडिडेट की सैलरी लगभग 58 हजार से 72 हजार रूपये होती है.

पुलिस इंस्पेक्टर (पुलिस निरीक्षक)

पुलिस इंस्पेक्टर पुलिस स्टेशन का इंचार्ज होता है इनके लिए कोई डायरेक्ट भर्ती नही निकलती है आप सब इंस्पेक्टर के पद से प्रमोशन लेकर ही पुलिस इंस्पेक्टर बन सकते हैं. इनके कंधे पर तीन स्टार लगे होते हैं और लाल, नीले रंग की पट्टी होती है. इस पद पर काम करने वाले कैंडिडेट को 60 हजार से 78 हजार रूपये पर मंथ सैलरी दी जाती है.

डिप्टी सुपरिन्टेन्डेन्ट ऑफ़ पुलिस (उप पुलिस अधीक्षक)

इनके कंधे पर तीन स्टार लगे होते है और राज्य का नाम लिखा होता है मेट्रो सिटीज में इस पद को ACP (Assistant Commissioner of Police) भी कहा जाता है. इनकी प्रतिमाह सैलरी लगभग 65 हजार से 80 हजार रूपये तक होती है.

असिस्टेंट सुपरिन्टेन्डेन्ट ऑफ़ पुलिस (सहायक पुलिस अधीक्षक)

ये आईपीएस ऑफिसर के ट्रेनिंग का समय होता है इसमें 1 साल में 1 स्टार और IPS (Indian Police Service) लिखा होता है और 2 साल में 2 स्टार और IPS लिखा होता है और 3 साल में 3 स्टार और IPS लिखा होता है.

ये ट्रेनिंग पूरी हो जाने के बाद ये एडिशनल सुपरिन्टेन्डेन्ट ऑफ़ पुलिस (अपर पुलिस अधीक्षक) बनते है. इनके कंधे पर एक अशोक स्तम्भ का सिम्बल और उसके नीचे आईपीएस लिखा होता है इसे मेट्रो सिटीज में एडिशनल डिप्टी कमिश्नर (अतिरिक्त पुलिस आयुक्त) कहा जाता है. इनकी पर मंथ सैलरी लगभग 72 हजर से 85 हजार रूपये होती है.

सुपरिन्टेन्डेन्ट ऑफ़ पुलिस (पुलिस अधीक्षक)

एडिशनल एसपी के प्रमोशन होने के बाद आप सुपरिन्टेन्डेन्ट ऑफ़ पुलिस बन सकते हैं इनके कंधे पर एक अशोक स्तम्भ का चिन्ह और एक स्टार होता है और उसी के नीचे आईपीएस (IPS) लिखा होता है मेट्रो सिटीज में इसे डिप्टी कमिश्नर ऑफ़ पुलिस (जूनियर मैनेजमेंट ग्रेड) के नाम से भी जाना जाता है. इन्हें पर मंथ 78 हजार से 90 हजार रूपये सैलरी मिलती है.

सीनियर सुपरिन्टेन्डेन्ट ऑफ़ पुलिस (वरिष्ठ पालिक अधीक्षक)

इनके कंधे पर एक अशोक स्तम्भ का चिन्ह, दो स्टार और उसी के नीचे आईपीएस लिखा होता है. मेट्रो सिटीज में इसे डिप्टी कमिश्नर ऑफ़ पुलिस (सिलेक्शन ग्रेड) के नाम से भी जानते है. इस पद पर काम करने वाले कैंडिडेट की पर मंथ सैलरी लगभग 90 हजार से 1 लाख 18 हजर रूपये होती है.

डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल ऑफ़ पुलिस (पुलिस उपमहानिरीक्षक)

इनके कंधे पर एक अशोक स्तम्भ का चिन्ह, तीन स्टार और उसके नीचे IPS लिखा होता है. इनकी पर मंथ सैलरी लगभग 95 हजार से 1 लाख 31 हजार रूपये होती है.

इंस्पेक्टर जनरल ऑफ़ पुलिस (पुलिस महानिरीक्षक)

इनके कंधे पर एक स्टार और छड़ी कर्पाण से एक क्रॉस बना होता है और उसी के नीचे आईपीएस लिखा होता है. इस पद पर कार्यरत कैंडिडेट की पर मंथ सैलरी लगभग 1 लाख 10 हजार से 1 लाख 44 हजार रूपये होती है.

एडिशनल डायरेक्ट जनरल ऑफ़ पुलिस (अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक)

इनके कंधे पर एक एक अशोक स्तम्भ और छड़ी कर्पाण से एक क्रॉस का चिन्ह बना होता है और उसी के नीचे आईपीएस लिखा होता है. इन्हें प्रतिमाह 1 लाख 30 हजार से 1 लाख 50 हजार रूपये के लगभग सैलरी मिलती है.

डायरेक्टर जनरल ऑफ़ पुलिस (पुलिस महानिदेशक)

इनके कंधे पर एक अशोक स्तम्भ का चिन्ह और छड़ी कर्पाण का चिन्ह बना होता है उसी के ठीक निचे आईपीएस लिखा हुआ होता है. इनकी पर मंथ सैलरी लगभग 1 लाख 45 हजार से 1 लाख 80 हजार रूपये तक होती है.

डायरेक्टर ऑफ़ इंटेलिजेंस ब्यूरो (खुपिया ब्यूरो निदेशक)

इनके कंधे पर एक अशोक स्तम्भ, एक स्टार और छड़ी कर्पाण से क्रॉस का चिन्ह बना होता है और उसी के ठीक नीचे आईपीएस लिखा होता है. इनकी पर मंथ सैलरी लगभग 1 लाख 50 हजार से 2 लाख रूपये तक होती है.

इसे भी पढ़ें?

बिजली विभाग में नौकरी कैसे पाये? | बिजली विभाग में अप्लाई करें

Police Inspector कैसे बने? | पुलिस का सिलेक्शन प्रोसेस क्या है?

पुलिस कांस्टेबल कैसे बनें? | सिपाही कैसे बने?

वन विभाग में कितने पद होते हैं? | वन विभाग के पदों की जानकारी

आज आपने क्या सीखा?

हम आशा करते हैं कि हमारा ये (Police vibhag me kitne pad hote hai) आर्टिकल आपको काफी पसंद आया होगा और आपके लिए काफी यूजफुल भी होगा, इसमें हमने आपको पुलिस विभाग के पदों से रिलेटेड पूरी जानकारी दी है.

हमारी ये (police vibhag me kitne pad hote hai) जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट करके जरुर बताइए और ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर भी कीजिये.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.