पेमेंट गेटवे क्या है? | पेमेंट गेटवे कैसे काम करता है?

Payment gateway kya hai in hindi

Payment gateway kya hai in hindi- बहुत से लोगों में पेमेंट गेटवे के बारे में सुना होगा लेकिन बहुत लोग ऐसा है जिन्हें इसके बारे नही पता है इसीलिए आज इस आर्टिकल में हम आपको पेमेंट गेटवे के बारे में पूरी जानकारी देंगे.

पेमेंट गेटवे क्या है? (What is Payment gateway in hindi)

Payment gateway kya hai in hindi
Image Credit: Shutterstock

पेमेंट गेटवे एक सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन होता है जिसका यूज व्यापारियों के द्वारा अपने ग्राहकों से क्रेडिट या डेबिट कार्ड को स्वीकार करने के लिए किया जाता है. ये एक ऐसी सर्विस है ग्राहक के क्रेडिट और डेबिट कार्ड को वेबसाइट के कार्ड पेमेंट नेटवर्क को भेजती है और प्रोसेस किया जाता है. उसके बाद पेमेंट की जानकारी वेबसाइट को भेज दी जाती है. जब भी आप किसी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से ऑनलाइन पेमेंट करना चाहते हैं तो आपको पेमेंट गेटवे की जरूरत होती है.

पेमेंट गेटवे पेमेंट का लेनदेन करने के लिए एक तरह का प्लेटफार्म है जब भी आप ऑनलाइन शॉपिंग करते है तो आप कैश न देकर ऑनलाइन पेमेंट करते है तो पेमेंट करते समय एक प्रोसेस किया जाता है उस प्रोसेस को पूरा करने के बाद ही पेमेंट होती है.

हमे पेमेंट गेटवे की जरूरत क्यों होती है?

जब हम लोग मॉल में शॉपिंग करने जाते है तो हम लोग कार्ड से पेमेंट करते है लेकिन जब हम लोग ऑनलाइन शॉपिंग करते है तो हमे अपने कार्ड की डिटेल्स डालना पड़ता है क्युकी हम वहां पर कार्ड को फिजिकली प्रेजेंट नही कर सकते हैं इससे पता नही चल पाता है कि कौन सा व्यक्ति पेमेंट कर रहा है. जब भी आप कोई भी चीज ऑनलाइन डालते हैं तो इससे फ्रॉड के चांस बढ़ जाते हैं अगर आप वहां से पेमेंट गेटवे हटा देते है तो कस्टमर्स के साथ फ्रॉड होने के चांस काफी ज्यादा हो जाते हैं और उनके कार्ड की डिटेल्स भी चोरी हो सकती है. अगर आप मर्चेंट है आपकी कोई वेबसाइट है जहाँ पर कस्टमर्स पेमेंट करते हैं तो अगर उन कस्टमर्स के साथ फ्रॉड होगा तो इससे आपको और आपके कस्टमर को दोनों को नुकसान होगा इसीलिए पेमेंट गेटवे जरूरी होता है.

पेमेंट गेटवे कैसे काम करता है?

पेमेंट के प्रोसेस में तीन लोग है कस्टमर (जो शॉपिंग करता है), मर्चेंट अकाउंट (जो प्रोडक्ट बेचता है उसका बैंक अकाउंट भी इसमें इन्वोल्व होता है) और यूजर का बैंक अकाउंट होता है.

अगर कोई कस्टमर किसी प्रोडक्ट को सेलेक्ट करता है और पे बटन पर क्लिक करता है और फिर सेलेक्ट करता है कि वो कार्ड पेमेंट कर रहा है और कार्ड की डिटेल्स डाल देता है और सबमिट कर देता है सबमिट बटन पर क्लिक होते ही पेमेंट गेटवे उसकी कार्ड की डिटेल्स को एन्क्रिप्ट करके सीक्रेट फॉर्म में मर्चेंट के बैंक तक पहुंचा देता है. मर्चेंट में बैंक के पास ये इनफार्मेशन जाने के बाद वो चेक करता है कि कार्ड वैलिड है कि नही, तो उसके बारे में जानने के लिए कार्ड के नेटवर्क के पास रिक्वेस्ट भेजता है

अब कार्ड नेटवर्क कस्टमर के बैंक के पास इस रिक्वेस्ट को भेजेगा, कस्टमर के बैंक से कार्ड नेटवर्क के पास रेस्पोंस आ जायेगा कि ये पेमेंट सक्सेस फुल है या नही,  अब कार्ड नेटवर्क मर्चेंट के बैंक को ये रेस्पोंस दे देगा, मर्चेंट के पास फीडबैक (रेस्पोंस) आ जाने पर ये पेमेंट गेटवे को बता देता है कि ये पेमेंट सक्सेसफुल या फेल. अगर आपका पेमेंट सक्सेस है तो पेमेंट गेटवे मर्चेंट को बता देगा और तब आपकी वेबसाइट पर दिखाई देगा कि आपका पेमेंट सक्सेस हो गया है.

उदाहरण- माना कि आपने अपने क्रेडिट या डेबिट कार्ड की इनफार्मेशन किसी व्यक्ति को दी, वो व्यक्ति आपकी इनफार्मेशन को बैंक तक ले कर जा रहा है लेकिन बीच में ही किसी हैकर ने उस इनफार्मेशन को हैक कर लिया. तो इससे बचने के लिए आप अपने इनफार्मेशन को एन्क्रिप्ट फॉर्म में कर सकते हैं इससे आपका डाटा या इनफार्मेशन सेफ्टली बैंक तक चला जायेगा. बैंक तक जाने के बाद आपकी डिटेल्स चेक की जाती है कि आपकी इनफार्मेशन सही है कि नही, उसके बाद जो दूसरा डाटा होगा उसे उसी व्यक्ति के द्वारा मर्चेंट (जो आपको सामान बेच रहा है) के अकाउंट तक भेजा जाता है उसके बाद मर्चेंट उस डाटा को वेरिफाई करता है और उसके अकाउंट में वो पैसा ट्रांसफर हो जाता है. इस पूरे प्रोसेस में डाटा को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने का काम किया है उसे ही आप एक पेमेंट गेटवे के जैसे मान सकते हैं. इस पूरे प्रोसेस को करने के लिए जिस एप्लीकेशन का यूज किया जाता है उसे पेमेंट गेटवे कहा जाता है.

पेमेंट गेटवे का क्या काम होता है?

पेमेंट गेटवे एक सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन होता है इसका काम आपके द्वारा डाले गये पेमेंट के डाटा को मर्चेंट कर बैंक तक पहुंचाना होता है. पेमेंट गेटवे कार्ड को वैलिडेट करने का काम करता है. पेमेंट गेटवे द्वारा जो कम्युनिकेशन किया जाता है मतलब कि मर्चेंट के बैंक तक जो डाटा भेजता है वो एन्क्रिप्टेड फॉर्म में होता है. पेमेंट गेटवे के कस्टमर और एक मर्चेंट के बीच में काम करता है और ट्रांजेक्शन को सिक्योर तरीके से करने में मदद करता है.

मार्केट में कई सारी पेमेंट गेटवे कंपनीज है तो जो नये मर्चेंट आते है तो उन्हें पेमेंट गेटवे का पूरा इन्फ्रास्ट्रक्चर बनाने की जरूरत नही होती है वो किसी पेमेंट गेटवे कंपनी से टाईअप कर लेते है और उनका बिज़नेस शुरू हो जाता है.

पेमेंट गेटवे के फायदे क्या है?

पेमेंट गेटवे के निम्नलिखित फायदे है-

  1. पेमेंट गेटवे के कारण आसानी से और जल्दी पेमेंट किया जा सकता है.
  2. आप अपने किसी भी काम में पेमेंट करने के लिए पेमेंट गेटवे का यूज कर सकते हैं.
  3. आप कभी भी और कही भी पेमेंट गेटवे का यूज करके पेमेंट कर सकते हैं.
  4. कई तरह के पेमेंट को स्वीकार करने की क्षमता पेमेंट पोर्टल के द्वारा ही उपलब्ध होती है जिसके कारण अलग-अलग क्रेडिट और डेबिट कार्ड को आप अपने पोर्टल पर ला पाते हैं.
  5. पेमेंट गेटवे किसी भी बिज़नेस के लिए बहुत ही जरूरी है क्युकी इससे पैसे और समय दोनों की बचत होती है.
  6. पेमेंट गेटवे आपके कस्टमर्स को फ्रॉड से बचाता है.

इसे भी पढ़ें?

Technology कैसे बदल रही है? | तकनीक कैसे बदलती है?

दुनिया का सबसे महंगा लैपटॉप कौन सा है?

इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट सिस्टम क्या है | What is Electronic payment

आज आपने क्या सीखा?

हम आशा करते हैं कि हमारी ये (Payment gateway kya hai in hindi) जानकारी आपको पसंद आई होगी और आपके लिए यूजफुल भी होगी, इसमें हमने आपको पेमेंट गेटवे से रिलेटेड पूरी जानकारी दी है जैसे- पेमेंट गेटवे क्या है? हमे पेमेंट गेटवे की जरूरत क्यों होती है? पेमेंट गेटवे कैसे काम करता है? पेमेंट गेटवे का क्या काम है और पेमेंट गेटवे के फायदे क्या है? आदि

हमारी ये (Payment gateway kya hai in hindi) जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट करके जरुर बताइए और ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर भी कीजिये.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.