HTML क्या है | HTML में विशेषता क्या है?

html in hindi

जब भी हमे किसी डाटा/इनफार्मेशन की जरूरत पड़ती है तो हम इंटरनेट के जरिये उसे ढूंढ लेते हैं इंटरनेट पर मिलने वाली ये जानकारी किसी न किसी वेबसाइट पर स्टोर होती है इंटरनेट पर स्टोर ये डाटा वेब पेजेज के रूप में होते हैं और ये सब वेब पेजेज कंप्यूटर सर्वर में स्टोर रहते हैं

बहुत सारे वेब पेजेज को मिलाकर एक वेबसाइट तैयार की जाती है और हम वेब पेजेज पर इनके यू आर एल(एड्रेस) के द्वारा पहुँच पाते है तो आज हम आपको बतायेंगे कि इन वेब पेजेज और वेबसाइट्स को कैसे बनाया जाता है/ किसका यूज करके बनाया जाता है.

वेबसाइट बनाने के लिए एचटीएमएल लैंग्वेज की जरूरत होती है और एचटीएमएल की वजह से ही हम लोग आज वेबसाइट को यूज कर पाते है और उनसे इनफार्मेशन भी लेते हैं आज के समय में सबसे ज्यादा यूज किया जाने वाला लैंग्वेज एचटीएमएल है आज के समय में सभी काम ऑनलाइन ही हो रहे है इसी सभी को इस लैंग्वेज के बारे में पता होना चाहिये.

HTML क्या है? (What is HTML in Hindi?)

html kya hai in hindi

एचटीएमएल का पूरा नाम हाइपर टेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज है एचटीएमएल को वेबसाइट और वेब पेजेज बनाने के लिए बनाया गया है एचटीएमएल लैंग्वेज का यूज एक वेबसाइट को डिजाइन करने, वेब पेजेज के अंदर टेक्स्ट, इमेजेज, वीडियोज और हाइपरलिंक का यूज करने के लिए किया जाता है

HTML Language का यूज करके डिवाइस के वेब ब्राउजर के ये बताते हैं कि हमारे वेब पेजेज डाटा/इनफार्मेशन यूजर को किस तरह से दिखाई देना चाहिये एचटीएमएल हाइपर टेक्स्ट और मार्कअप लैंग्वेज दो शब्दों से मिलाकर बना है

हाइपर टेक्स्ट दो वेब पेजेज आपस में एक टेक्स्ट के अंदर जोड़ता है जिससे अगर कोई यूजर उस टेक्स्ट पर क्लिक करे तो वह उसे अगले वेब पेज पर पहुंचा दे इस प्रकार वेब पेजेज पर उपलब्ध लिंक को हाइपरटेक्स्ट कहा जाता है

मार्कअप लैंग्वेज का प्रयोग किसी भी वेब पेज का स्ट्रक्चर को बनाने के काम आती है इसमें बहुत से टैग्स होते है इससे बहुत से वेब पेज डिजाइन किया जाता है इसमें यूज होने वाले टैग्स के द्वारा पेज के कंटेंट को डिस्क्राइब किया जाता है

एचटीएमएल के सभी टैग्स प्रीडिफाइंड होते हैं एचटीएमएल के अलावा डीएचटीएमएल, एक्सएचटीएमएल और एक्सएमएल भी मार्कअप लैंग्वेजेज हैं लेकिन एचटीएमएल सबसे ज्यादा यूज होने वाली लैंग्वेज है.

HTML की खोज किसने और कब की थी?

एचटीएमएल की खोज Tim Berners Lee ने सन 1980 में जिनेवा में की थी एचटीएमएल कंप्यूटर लैंग्वेज है इसका यूज वेबसाइट बनाने के लिए किया जाता है और इसमें रंग, रूप और स्टाइल देने के लिए सीएसएस का इस्तेमाल किया जाता है सीएसएस का फुल फॉर्म कैस्केडिंग स्टाइल शीट होता है सीएसएस को एचटीएमएल के साथ प्रयोग किया जाता है

वेबसाइट को एक आकर्षक और सुंदर रूप देने के लिए सीएसएस का इस्तेमाल किया जाता है एचटीएमएल लैंग्वेज कंप्यूटर की अन्य लैंग्वेजेज जैसे- सी, सी++, जावा से एकदम अलग है ये लैंग्वेज समझने में बहुत आसान होने के कारण ही ये एक लोकप्रिय लैंग्वेज है और इसे आसानी से मॉडिफाई भी किया जा सकता है ये केस सेंसिटिव लैंग्वेज नही है

इसमें टैग्स को कैपिटल या स्माल लेटर में लिखा जा सकता है ये दोनों तरह से वर्क कर सकता है लेकिन सिम्पली तो इसे स्माल लेटर में लिखा जाता है ये एक प्लेटफार्म इंडिपेंडेंट लैंग्वेज है इसका यूज किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम में किया जा सकता है

HTML का इस्तेमाल वेब पेज बनाने के लिए किया जाता है लेकिन ये सिर्फ वेब डॉक्यूमेंट बनाने तक ही सीमित नही होता है बल्कि इसका यूज वेबपेज डेवलपमेंट, नेविगेशन, गेम डेवलपमेंट, ग्राफिक्स, वेब डॉक्यूमेंट इन्फोर्मेटिंग में भी किया जाता है.

HTML5 क्या है? (What is HTML5 in Hindi?)

HTML5 एचटीएमएल का एडवांस्ड रूप है  टेक्नोलॉजी में बदलाव होने से समय-समय पर चीजों को सुधारा जाता है इसी तरह एचटीएमएल में भी काफी बदलाव किये गये हैं और अब इसका लेटेस्ट वर्जन एचटीएमएल5 है अभी भी हम इसके पुराने वर्जन्स का इस्तेमाल कर सकते हैं

टेक्नोलॉजी में बदलाव होने के कारण वो कई सारी चीजों को पूरा नही कर पाता/ उसमें कई सारी चीजें नही है जो अब के लेटेस्ट वर्जन में है उन सभी बदलावों के साथ एचटीएमएल का एडवांस वर्जन एचटीएमएल5 विकसित किया गया है एचटीएमएल 5 में एचटीएमएल से ज्यादा फीचर्स हैं इसमें कुछ नये फीचर्स और नये टैग्स जोड़े गये हैं जिससे इसका कोड लिखने में आसानी होती है

HTML5 (html in hindi) में बहुत से ऐसे टैग्स और ऐट्रिब्यूट्स जोड़े गये हैं जिसके द्वारा आप वेबपेज में आसानी से ग्राफिक्स, ऑडियो और विडियो इत्यादि जोड़े जा सकते हैं बल्कि एचटीएमएल के पुराने वर्जन में डायरेक्ट ऑडियो और विडियो नही जोड़ा जा सकता था.

HTML5 के फीचर्स क्या है?

एचटीएमएल5 में बहुत से ऐसे फीचर्स हैं जो इसे बाकि के वर्जन्स से अलग और अनोखा बनाते हैं.

सिम्पल एंड सिक्योर

एचटीएमएल टैग्स को सिंपल बनाया गया है इसके सभी टैग्स को शार्ट किया गया है जिससे यूजर सभी टैग्स को आसानी से याद रख सके एचटीएमएल के पहले वाले वर्जन में डॉक्यूमेंट टाइप डिक्लेयरेशन लिखा जाता था जो डॉक्यूमेंट में दर्शाये गये पेजेज के बारे में बताता था

ये डिक्लेयरेशन वेब पेज में सबसे ऊपर ही लिखा रहता है जबकि पुराने वर्जन में बहुत ही लम्बा क्लेयरेशन लिखना पड़ता था लेकिन अब एचटीएमएल के नये वर्जन में इसे छोटा कर दिया गया है जिससे लिखने में आसानी हो एचटीएमएल5 में कोड को डिबग करना भी आसान है एचटीएमएल5 में कुछ इनबिल्ट फीचर्स भी जुड़ गये हैं जिससे इसमें बनाये गये सभी वेबपेज सुरक्षित रहें.

HTML5 में प्लगिन की आवश्यकता

प्लगिन बहुत सारी प्रोग्रामिंग कोड और फंक्शन का कलेक्शन होता है जो वेबसाइट में एक्स्ट्रा फीचर्स को जोड़ने की सुविधा प्रदान करता है एचटीएमएल में पहले किसी भी तरह का ऑडियो या विडियो जोड़ने के लिए प्लगिंस की जरूरत होती थी जिससे वेबसाइट की लोडिंग स्पीड बढ़ जाती थी और वेबसाइट को ओपन होने में काफी समय लगता था

लेकिन अब एचटीएमएल5 (html in hindi) में ऑडियो और विडियो जोड़ने के लिए बहुत कम प्लगिंस का इस्तेमाल किया जाता है क्युकी ऑडियो और विडियो जोड़ने के लिए वेब पेज में अलग से कुछ टैग्स और ऐट्रिब्यूट्स जोड़े गये हैं जिससे अब आसानी से ऑडियो और विडियो फाइल को जोड़ा जा सकता है और इससे वेबसाइट जल्दी से ओपन भी हो जाती है.

ग्राफिक्स डिजाइन

एचटीएमएल (html in hindi) में ग्राफिक्स और एनीमेशन बनाने के लिए कोई मकैनिस्म उपलब्ध नही था लेकिन आज के समय में एचटीएमएल5 की वजह से वेब डेवेलोपर्स ग्राफिक्स और एनीमेशन को डायरेक्ट वेब पेजेज में जोड़/डाल सकते है लेकिन इसके लिए स्पेशल टैग कैनवास का यूज किया जाता है इसकी वजह से बहुत से ग्राफिक्स, कंपोनेंट्स, वेबपेज में जोड़े जा सकते हैं जैसे- बॉक्सेस, सर्कल्स, टेक्स्ट और इमेजेज आदि.

मोबाइल वेब को आसान बनाया गया है

आज के समय में सभी छोटे या बड़े क्षेत्र में काम करने वाले व्यक्ति के पास स्मार्ट फोन जरुर होगा और कोई भी जानकारी पाने के लिए वेबसाइट का यूज करते हैं यूजर किसी भी मोबाइल डिवाइसेस के द्वारा किसी भी एमी वेब रिसोर्सेज तक पहुंचना चाहते हैं एचटीएमएल में बनाये गये वेबपेज यूजर फ्रेंडली नही होते हैं

लेकिन अब एचटीएमएल5 ने मोबाइल और टेबलेट जैसे संचालित इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के लिए वेब पेज को मोबाइल सपोर्ट के लिए  बना दिया है जब किसी भी डिवाइस में आप वेब पेज को आसानी से ओपन कर सकते है एचटीएमएल5 में बहुत से ऐसे टैग्स जोड़े और घटाये गये है

जिसके कारण यह आसान होने के साथ- साथ एक पॉपुलर लैंग्वेज बन गयी है आज के समय में अगर आप वेब डेवलपर बनना है या ऑनलाइन कोई का स्टार्ट करना है तो आपको एचटीएमएल और एचटीएमएल5 लैंग्वेज को सीखना बहुत जरूरी है इसे आप कोचिंग लेकर, या ऑनलाइन विडियो देखकर भी आसानी से सीख लेंगे.

Web Development Free Course | डिज़ाइनर कैसे बने

आज आपने क्या सीखा?

दोस्तों, हम उम्मीद करते है कि हमारा ये (html in hindi) आर्टिकल आपको पसंद आया होगा अगर आप भी जॉब ढूढ़ रहे है तो आप वेब डेवलपमेंट को करियर ऑप्शन के रूप में चुन सकते है और आप दूसरे के लिए वेबसाइट डिजाइन कर बहुत सारे पैसे कमा सकते हैं

आपको हमारा ये आर्टिकल कैसा लगा कमेंट करके जरुर बताइयेगा और इसे अपने फ्रेंड के साथ और जो भी इस बारे में जानना चाहता है उसके साथ इस आर्टिकल को शेयर कीजिये.

“ मेरा देश बदल रहा है आगे बढ़ रहा है ”

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *