Google सर्च कैसे काम करता है | गूगल क्या काम करता है

Google kya hai 

Google kya hai

गूगल कैसे काम करता हैं? (How does Google work?)

Google का use तो ज्यादातर सभी लोग करते हैं google में ही हम अलग-अलग तरह की websites सर्च करते हैं लेकिन क्या कभी आपने सोचा है google एक तरह की website है फिर भी ये अन्य websites के data को कैसे पता लगा लेती है तो आज हम आपको बतायेंगे कि google works कैसे करता है?.

Google एक website है और हमे अगर internet से कुछ भी सर्च करना है तो इसी google के अंदर ही करेंगे internet में जितनी भी website है वो सारी websites google के पास नही हैं.

अगर हम आज एक नई website बनाये google (Google kya hai) के अंदर हम देखेंगे कि उस website को google के अंदर आने के लिए 1 से 2 से 5 दिन लग जायेंगे क्युकी जो google है वो अपने code run करता है algorithm run करता है और दुनिया में जितनी websites है उनको वो बारी-बारी run करके अपने database में भरते जाते हैं.

और जब भी हम कुछ चीजें सर्च करते है तो google के पास जो सारी websites का index है जो google को पता है internet पर तो पता नही कितनी वेबसाइटें होंगी लेकिन google ने जितनी वेबसाइटो को देख-देख के रखा है अपने database में store करके रखा है google केवल वही वेबसाइटें हमको दिखा सकता है.

अब यहाँ पर बात आती है कि google के पास ये जो अलग-अलग वेबसाइटो की list है ये google कैसे बनाता है? क्युकी google खुद एक website है ऐसा नही है कोई भी list automatically इसके पास आ जाएगी. Google ने अपने programs बनाये हैं और अलग-अलग algorithm बनाये हैं तो google स्पाइडर या रोबोट use करता है.

स्पाइडर मतलब मान लो एक website हमने google को दिखाई तो उसका जो स्पाइडर या रोबोट या फिर coding है तो वो जो coding है या कह सकते है कि वो जो रोबोट है वो एक website के अंदर जायेगा अब इस वेबसाइट के अंदर जो स्पाइडर या रोबोट है वो उसके अंदर ढूंढेगा कि कितने और haiperlink हैं जो दूसरी website को point कर रहे हैं.

तो मान लो कि इस particular एक website के अंदर 10 link ऐसे मिल गये जो दूसरी websites को point कर रहे हैं और वो जो स्पाइडर या रोबोट है वो automatically इन 10 websites के अंदर जायेगा और फिर से दसों websites में भी देखेगा कि वो particular website कितने दूसरी websites को link कर रहा है.

मान लो कि उन 10 website के अंदर एक-एक वेबसाइटें और मिल गयी फिर उनमें से एक website में जायेगा और उसके अंदर दस और मिल गयी फिर से उनमे से एक website में जायेगा और फिर उसके अंदर 10 और मिल गयी ऐसा करते-करते websites का पूरा एक जाल बन जायेगा.

गूगल का पूरा नाम क्या हैं? (What s the full form of GOOGLE)

गूगल एक शार्ट नाम है, गूगल का पूरा नाम “GLOBAL ORGANIZATION OF ORIENTED GROUP LANGUAGE OF EARTH” है।

G – Global
O – Organization
O – Oriented
G – Group
L – Language
E – Earth

गूगल का मलिक कौन हैं? (Who is the owner of Google?)

दो छात्र Larry Page और Sergey Brin गूगल (Google) के मालिक है।

गूगल किस देश की कंपनी है

गूगल का पता क्या है? तो हम आपको बतादे की गूगल अमेरिका की कंपनी है, अमेरिका के राज्य केलिफोर्निया में इसका Office स्थित है। आप गूगल के अन्य Address नीचे देख सकते है।

1600 Amphitheatre Parkway in Mountain View,

California,United States

अगर बात करे India की तो यहाँ Google के मुख्य आफिस 3 जगह पर है.

1.Mumbai
Google India Pvt Ltd, 1st Floor, 3 North Avenue, Maker Maxity, Bandra Kurla Complex, Bandra East, Mumbai, 400051, India

2.Gurgaon
Google India Pvt Ltd, Unitech Signature Tower-II, Tower-B, Sector-15, Part-II Village Silokhera, Gurgaon 122001, India.

3.Bangalore
Google India Pvt. Ltd, No. 3, RMZ Infinity – Tower E, Old Madras Road, 3rd, 4th, and 5th Floors, Bangalore, 560016, India.

एक website के अंदर स्पाइडर या रोबोट घुसा और घूमते-घूमते पूरा internet scan करता रहेगा और जो-जो वेबसाइटें इसको मिलती जा रही है सारी वेबसाइटो का टाइटल, discription, url सभी चीजें अपने database में store करते जा रहे हैं तो घुमा फिरा कर google अपने रोबोट अलग-अलग वेबसाइटो पर, पूरे internet पर भेजता है.

पूरे internet पर फैले हुए google (Google kya hai) के स्पाइडर या रोबोट फैले हुए हैं क्युकी अलग-अलग नई-नई वेबसाइटें पुरानी website, अगर update हुई हैं तो उसकी सारी detail, तो ये सारी details automatically उनके सारे स्पाइडर लाकर google के database में भरते जाते है या store करते जाते हैं.

Google kya hai

यहाँ पर एक बात और है सारी websites update होंगी तो इसको भी update करना पड़ेगा तो ये एक long process है मिलियन स्पाइडर या रोबोट पूरे internet में google का database भरने के लिए घूम रह हैं.

जब google database भराने लगा तो इसे मिलियन्स सर्वर तो इसने बहुत सारे servers बनाए जिसमे इन सभी websites की link या websites की details भरते है. अभी तक हमने google के backend के बारे में बताया.

अब हम बात करते हैं क्लाइंट्स की जैसे हम लोग कुछ सर्च करते है मान लो हमने google के Bulk SMS Service सर्च किया तो ये जिस-जिस website में होगा या टाइटल में होगा या फिर कही भी website के नाम में होगा google सबसे पहले अपने servers पर ढूंढेगा ऐसी कौन-कौन सी website है.

जिसमे ये particular keyword तीनो match हो रहे हैं या दो match हो रहे हैं इस हिसाब से पहले इसकी list बना कर लायेगा और फिर इस लिस्ट को google वापस से scan करेगा और 200 से 500 अलग-अलग सवाल उन वेबसाइटो के link से पूछेगा जैसे- क्या वह वर्ड टाइटल में आ रहा है?

क्या उस website में ऐसी कुछ चीजे है जो एक keyword से match हो रहे हैं? keyword का जो मीनिंग वेबसाइटें निकल पा रही है कि नही?

ऐसे ही बहुत सारे question google पूछेगा इस हिसाब से जितनी भी websites होंगी उनको एक sequence में बना कर लायेगा कि उसको पहले क्या दिखाना है दूसरा क्या दिखाना है तीसरा क्या दिखाना है इसके हिसाब से top ten results google आपको निकाल कर देता है बहुत सारी चीजें होती हैं.

जिसकी वजह से website की रैंकिंग traffic के हिसाब से, Click Through Rate(CTR) के हिसाब से up down होती रहती है.

CTR मान लीजिये कि हमने एक keyword लिखा Bulk SMS Service तो इसकी बहुत सारी website आई हमने बहुत सारी websites को skip करके एक website को open किया अगर हम उसी website को बार-बार open करेंगे तो google (Google kya hai) को ऐसा लगेगा कि सब लोग skip करके उसी website पर जा रहे हैं.

जब हम हम कुछ सर्च करते हैं और किसी एक website पर click करके open करना है और website पर लगभग 10 सेकंड तक चीजें स्क्रॉलिंग करना है और फिर browser बंद कर देना है यहाँ पर आपको back नही करना है back करेंगे तो google को ऐसा लग सकता है कि bounce back हो गया website अच्छी नही है.

Visitor जा रहा है तो ये आप करके देखना फिर देखना 5 या 6 दिन बाद क्या ये website automatically up हो गयी अगर up हो गयी तो इससे आपको पता चल जायेगा google की algorithm इन सभी चीजों पर भी depend करती है यहाँ पर google जो रैंकिंग दिखा रहा है.

इसको improve करने के, update करने के लिए या फिर आपकी site में जो चीजें आप update कर रहे हैं उसके रोबोट या स्पाइडर को जल्दी भेजने के लिए ताकि उसे पता चल जायेगा कि आपने कुछ चीजें update की है इसके पैसे नही लेता है गूगल ये सभी चीजें transparency के साथ करता है गूगल keyword पर ads भी दिखाता है.

जिस के maintenance का आपको free में सर्च result दिखाने का पैसा google add से निकालता है और add google particular keyword के हिसाब से google right साइड और top साइड में दिखाता है तो google add से पैसे कमाकर हमको results देता है.

वो free में देता है google ने algorithm बनाकर coding करके पूरे internet पर करके उसका रोबोट कब्ज़ा करके बैठा हुआ है तो ये जो स्पाइडर या रोबोट है यही google को सारी information लाकर देते हैं मिलियन्स रोबोट घूम रहे है अगर आप अपनी website पर रोबोट या स्पाइडर को block करना चाहते हो तो google एक मैथर्ड भी देता है.

अगर आप अपनी website पर robots.text की फाइल बनाते हैं उस पर ये सारी coding लिख देते हो तो automatically स्पाइडर आकर इसको देखेगा अगर आपने allow किया होगा तभी आपकी website में जायेगा नही तो website में नही जायेगा और नही गया तो उस website में क्या है.

ये google को पता नही चलेगा तो google पर उसकी सारी चीजें नही मिलेंगी वो website google पर नही मिलेगी. यहाँ पर Google एक website ही है अगर हम ऐसी coding करके खुद का एक सर्च इंजन बनाना चाहें तो बना सकते हैं.

अब कभी ये मत सोचना कि कोई website अगर google में नही मिली तो कहीं नही मिलेगी google के स्पाइडर information को google तक नही पहुचा पाए तो वो चीज google में नही मिलेगी आजकल तो google बहुत ही advance हो गया है अब google चाहता है websites को traffic न दूँ वो जो चीजें सर्च कर रहे है automatically उसके results google में दिखा दे जैसे अगर कोई सर्च करता है.

प्राइम मिनिस्टर ऑफ इंडिया तो इसमें पहले websites आती जाता सर्च करता फिर मिलता आजकल google का main motive ये है कि जो चीजें सर्च कर रहे हैं उसका results मिले अब ये माइने नही रखता कि वो website पर जाये और websites पर वो results पढ़े क्योकि website पर जायेगा तो जिसने उस website को बनाया होगा.

उसको पैसा मिलेगा तो इसीलिए google आजकल सारी चीजें सर्च results में ही दिखाता है अब आपको websites visit नही करना है क्युकी google अब advance हो गया है सभी चीजें समझने लगा है उसका मीनिंग निकालकर उसने automatically जो दता है उस data को ही use करके वो उसी के सर्च result में दिखाता है.

आज जितना data पूरी दुनिया में होगा उससे ज्यादा डाटा google के पास होगा websites का data, हम location दखते हैं तो location के map देखते हैं तो उसका भी डाटा google के पास रहता है आजकल जब हम google pay करते है.

उसका पूरा data, घुमा फिरा कर बात करें तो आजकल हम लोग google को नही google हम लोगों को चला रहा है हमारी information से हमारी और help कर रहा है क्युकी हमने google में पहले से ही store करके रखी है पहले ये होता था कि हम लोग google को चलाते थे.

गूगल की कमाई कितनी है?

आपको विश्वास नही होगा कि गूगल हर रोज 6.8 करोड़ रोजाना कमाती है,  हर सेकंड में गूगल 45000 कमाती है जब आप ये पोस्ट पढ़ रहे हो तब हो सकता है ये आंकड़ा बढ़ गया हो।

गूगल की कमाई कैसे होती हैं? (How Does google Earn In Hindi)

Google पर हम किसी भी वस्तु को सर्च करते है तो उसका परिणाम ढूंढने के लिए गूगल हमसे कोई पैसा नही लेता, दूसरे product जो हम आमतौर पर उपयोग करते है लगभग सभी फ्री होते है, youtube पर हम कई सारे Videos फ्री में ही देखते है, Gmail का उपयोग भी फ्री है,  इसके लिये हम Google को कोई पैसा नही देते तो आखिर Google ki Kamai करोड़ो में कैसे होती है?

Google दो तरीको से पैसे पैसे कमाती है, 

Ads/Adwords

Adwords ये गूगल की एक ऐसी Service है जिसे हम और आप  Adverties के नाम से जानते हैं हर कोई अपने Business और अपने Products को गूगल के First Page के Top में देखना चाहता है इसके लिये Advertisers गूगल को कुछ पैसे देते है जिससे गूगल आपके Business और Products को गूगल के पहले पेज़ पर एक Ads के रूप मे दिखाता हैं. 

Adsense:

यहा पर गूगल Publisher के साथ मिलकर Advertises के Ads को Publisher की Website या Blog पर दिखाता हैं Adsense भी Google Adwords की तरह एक service है

Ads पर click होने पर जितनी भी Earning होती हैं इसमें Google Publishars के साथ मिलकर Publisher की वेबसाइट और ब्लोग पर Ads को दिखाता हैं उसमे से गूगल भी उस कमाई का कुछ हिस्सा अपने पास रख लेता है और बाकी का पैसा Publisher के Account मे महिने की 21 तरिख को उसके Bank Account मे दे दिया जाता हैं।

हम लोग सारी Information Google को देते थे आज Google kya hai के पास इतनी Information है कि हम लोग उसको use करके उसी के हिसाब से चलते हैं.

आज नया क्या सिखा?

अगर आप लोगो को हमारी ये Information Google kya hai  (What is Google in hindi) और कैसे काम करता है गूगल अपनी कमाई कैसे करता है   पसंद आई हो तो प्लीज हमारे इस article को अपने दोस्तों के साथ जरुर share कीजिये और जो लोग भी इस बारे में जानना चाहते है उनके साथ भी share कीजिये.

कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि WhatsApp Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये |

I hope guys like this Google kya hai.

Internet Cookies क्या है | What is Cookies in Computer

Spread the love

One thought on “Google सर्च कैसे काम करता है | गूगल क्या काम करता है

Leave a Reply

Your email address will not be published.