CDO कैसे बनें? | CDO क्या होता है और इनका काम क्या होता है?

CDO kaise bane

CDO का पूरा नाम Chief Development Officer होता है आप मे से बहुत से स्टूडेंट्स सीडीओ की जॉब पाना चाहते होंगे लेकिन उन्हें इसके बारे मे जानकारी नहीं होगी, तो ऐसे स्टूडेंट्स हमारे इस आर्टिकल को पूरा ज़रूर पढ़े क्योकि आज इस आर्टिकल मे हम आपको CDO बनने से रिलेटेड पूरी जानकारी देने वाले हैं.

CDO क्या होता है और इनका काम क्या होता है?

CDO kaise bane

CDO का फुल फॉर्म Chief Development Officer होता है इन्हें मुख्य विकास अधिकारी भी कहा जाता है इनका काम जिले स्तर पर विकास का कार्य करना होता है VDO ऑफिसर BDO ऑफिसर के नीचे काम करते है और BDO ऑफिसर CDO ऑफिसर के नीचे काम करते हैं सीडीओ जिले के अंतर्गत आने वाले सभी ब्लॉक और ग्रामीण क्षेत्रों का एक बड़ा अधिकारी होता है जो राज्य सरकार और केंद्र सरकार द्वारा चलाई जाने वाली योजनाओं को ग्रामीण और शहरी इलाकों मे लागू करने का आदेश देता है और उनकी समय-समय पर जाँच करता है अगर किसी योजना मे कोई समस्या आ रही है तो सरकार से सीधे बात करने के लिए जिम्मेदार होता है अपने नीचे काम करने वाले अधिकारियों के कामों और उनके क्षेत्र चल रहे विकास के कार्यों पर नजर रखता है और कहीं पर कोई गड़बड़ी होने पर अधिकारियों के खिलाफ एक्शन भी ले सकता है.

CDO बनने के लिए qualification क्या होनी चाहिए?

सीडीओ ऑफिसर बनने के लिए candidate का किसी भी सब्जेक्ट से ग्रेजुएशन पास होना जरूरी है

इसमें अप्लाई करने के लिए जनरल category के candidate की ऐज 21 से 40 साल के बीच मे होनी चाहिए ऐज मे ओबीसी candidate को 3 साल और एससी-एसटी candidate को 5 साल की छूट दी जाती है जिसके अनुसार ओबीसी candidate की आयु 21 से 43 साल और एससी-एसटी candidate की आयु 21 से 45 साल के बीच मे होनी चाहिए.

CDO बनने के लिए सेलेक्शन प्रोसेस क्या होता है?

CDO बनने के लिए Public Service Commission द्वारा एग्जाम कंडक्ट किया जाता है जैसे अगर आप उत्तर प्रदेश से है तो UPSSSC के द्वारा इस एग्जाम को कंडक्ट किया जाता है लेकिन अगर आप उत्तराखण्ड से है तो UKSSSC के द्वारा इस एग्जाम को कंडक्ट किया जाता है इसी तरह अलग-अलग राज्यों मे इसकी भर्ती प्रक्रिया अलग-अलग होती है.

CDO के सेलेक्शन प्रोसेस मे  आपको सबसे पहले प्रारंम्भिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा, और फिर इंटरव्यू पास करना होता है

प्रारंम्भिक परीक्षा

इस एग्जाम मे दो पेपर होते है लेकिन कुछ राज्यों (बिहार) मे इसका 1 ही पेपर होता है

जनरल स्टडीज

इसका पहला पेपर जनरल स्टडीज का होता है इसमें 200 नम्बर के 150 प्रश्न पूछे जाते है और ये पेपर 2 घन्टे का होता है इसमें बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जाते हैं और 1/3 नेगेटिव मार्किंग होती है.

इसे भी पढ़ें- Agriculture Scientist कैसे बनें

जनरल स्टडीज के सब्जेक्ट मे      विज्ञान, पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी, सामयिकी, अर्थशास्त्र, संस्थान, राजनीति, भूगोल, सरकारी नीतियाँ और पहल, आधुनिक इतिहास, मध्य कालीन इतिहास और कला एवं संस्कृति, आदि के बारे मे प्रश्न पूछे जाते हैं.

Civil Service Aptitude Test

दूसरा पेपर सिविल सर्विस aptitude टेस्ट का होता है इसमें 200 नम्बर के 100 प्रश्न पूछे जाते है और ये पेपर 2 घन्टे का होता है इसमें बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जाते हैं और इसमें भी 1/3 नेगेटिव मार्किंग होती है इसमें आपके 10th लेवल के क्वेश्चन पूछे जाते है.

मुख्य परीक्षा

अगर आप प्रारंम्भिक परीक्षा को पास कर लेते है तो आपको मुख्य परीक्षा देनी होती है. मुख्य परीक्षा में कुल 8 पेपर होते है इन पेपर्स मे शोर्ट एंड लॉन्ग क्वेश्चन्स पूछे जाते है ये सभी एग्जाम 3 घंटे के होते है इस एग्जाम में जनरल हिंदी, एस्से, जनरल स्टडीज1, जनरल स्टडीज2, जनरल स्टडीज3, जनरल स्टडीज4 और 2 ऑप्शनल पेपर: पेपर1 और पेपर2 होते है.

जनरल हिंदी

ये एग्जाम 3 घंटे का होता है इसमें 150 नंबर के प्रश्न पूछे जाते हैं ये एक क्वालीफाइंग पेपर होता है इसमें सरकारी और अर्धसरकारी पत्र लेखन, तार लेखन, कार्यालय आदेश, अधिसूचना, परिपत्र, शब्द ज्ञान एवम् प्रयोग, उपसर्ग एवं प्रत्यय, विलोम शब्द, वाक्यांश के लिए एक शब्द, वर्तनी एवं वाक्य शुद्धि और लोकोक्ति एवं मुहावरे से रिलेटेड प्रश्न पूछे जाते हैं.

एस्से

इसमे तीन खंड होते है और सभी खण्डों में 3 टॉपिक दिए गये होते है जिसमे से प्रत्येक टॉपिक पर 700-700 वर्ड का एस्से लिखना होता है और तीनों खंड 50-50 नंबर के होते हैं ये एग्जाम तीन घंटे का होता है. इसके पहले क खंड में साहित्य और संस्कृति, सामाजिक क्षेत्र, और राजनैतिक क्षेत्र से सवाल पूछे जाते है दूसरे खण्ड ख में विज्ञान, पर्यावरण प्रद्योगिक, आर्थिक क्षेत्र, कृषि उद्योग और व्यापार से रिलेटेड सवाल पूछे जाते हैं, और इसके तीसरे खण्ड ग में राष्ट्रीय और अंतर राष्ट्रीय घटनाक्रम, प्राकृतिक आपदायें और राष्ट्रीय विकास योजनाओं से रिलेटेड सवाल पूछे जाते हैं.

जनरल स्टडीज1, जनरल स्टडीज2 और जनरल स्टडीज3

इस पेपर में भारतीय इतिहास (प्राचीन, मध्यकालीन, आधुनिक), भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन और भारतीय संस्कृति, विश्व भूगोल, भारतीय भूगोल, प्राकृतिक संसाधन, वर्तमान घटनाएं, भारतीय कृषि, व्यापार और वाणिज्य, भारतीय राजनीति , भारतीय अर्थव्यवस्था, सामान्य विज्ञान, जीवन शैली और सामाजिक रीति रिवाज से रिलेटेड सवाल पूछे जाते हैं, ये पेपर्स 200-200 नंबर के होते हैं.

जनरल स्टडीज4

इसमें एथिक्स से रिलेटेड सवाल पूछे जाते हैं ये एग्जाम भी 200 नंबर का होता है.

ऑप्शनल: पेपर1 और पेपर2

ये एग्जाम भी 200-200 नंबर के होते है इसमें कुल 29 सब्जेक्ट होते हैं जिसमे से आपको कोई एक सब्जेक्ट चुनना होता है और उसी से रिलेटेड प्रश्न पूछे जाते हैं.

इंटरव्यू

अगर आप मेंन्स एग्जाम (CDO kaise bane) को भी क्लियर कर लेते है तो आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है सभी राज्यों मे इंटरव्यू के नंबर अलग-अलग होते है किसी राज्य मे 150, कहीं 200, और कहीं 50 नंबर का इंटरव्यू होता है जिसमें आपकी नॉलेज और स्किल्स के बेस पर प्रश्न पूछें जाते है अगर आप इंटरव्यू भी क्लियर कर लेते है तो आपको CDO के पद पर नियुक्त कर दिया जाता है.

CDO पद के लिए अप्लाई कैसे करें?

आप अपने राज्य (CDO kaise bane) की लोक सेवा चयन आयोग की website पर जाकर लेटेस्ट वैकेंसीज के बारे मे जानकारी ले सकते है और वही से अप्लाई भी कर सकते है, जैसे अगर आप उत्तर प्रदेश से है तो आप uppsc.up.nic.in की website पर जाकर लेटेस्ट वैकेंसीज के बारे मे पता कर सकते हैं.

CDO ऑफिसर की सैलरी कितनी होती है?

एक सीडीओ ऑफिसर को प्रतिमाह 35,000 से 65,000 रुपये के लगभग सैलरी दी जाती है ये सैलरी हर साल बढ़ती जाती है.

इसे भी पढ़े?

CTET एग्जाम क्या है

ICAR एग्जाम क्या है

UPSC exam क्या है

आज आपने क्या सीखा?

दोस्तों, हम उम्मीद करते हैं कि हमारी ये (CDO kaise bane) जानकारी आपके लिए काफी यूज़फुल होगी और आपको पसंद भी आई होगी क्योंकि इसमें हमने आपको सीडीओ बनने से रिलेटेड पूरी जानकारी दी है,

हमारी ये (CDO kaise bane) जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताइयेगा और जो स्टूडेंट सीडीओ की जॉब पाना चाहते हैं उनके साथ भी जरूर शेयर कीजिएगा.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.