ऊँट जहरीले सांप क्यों खाते है? | ऊँट कितने तरह के होते हैं?

Camel jahrile sanpo ko kyu khate hai- आप भी जानते है कि ऊँट एक शाकाहारी जानवर है फिर भी क्या आपको पता है कि ये ऊँट जहरीले सांपो को क्यों खाते है अगर नही, तो आज इस आर्टिकल में हम आपको बतायेंगे कि किस कारण से ऊँट सांपो को खाते है और इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे?

ऊँट के सांप खाने का कारण क्या है?

Camel jahrile sanpo ko kyu khate hai-

ऊँट एक शाकाहारी जानवर है लेकिन कभी-कभी ऊँटो को एक अजीब सी बीमारी हो जाती है जिससे इनके पैर और मुंह में बहुत दर्द होता हैं ऐसे में ऊँट खाना भी नही खाते है और इनकी मौत भी हो जाती है. इस बीमारी में ऊँटो को सांप खिलाया जाता है. सांप खाकर उनके जहर को बर्दाश्त करना आसान नही होता है लेकिन फिर भी इन्हें सांप खिलाया जाता है. ऊँट हर तरह की घास को खा लेते हैं ऊँट कैक्टस जैसे पौधों को भी खा लेते हैं.

ऊँट कितने तरह के होते हैं?

ऊँट मुख्यतः दो तरह के होते हैं इन्हें इनके कूबड़ से पहचाना जा सकता है

ड्रोमेडरी (Dromedary) 

ये अरबी नस्ल के ऊँट होते हैं इनकी पीठ पर एक कूबड़ होता है दुनिया में लगभग 90% ऊँट इसी नस्ल के होते हैं. इंडिया में ये ऊँट आपको देखने को मिल जायेंगे. राजस्थान में ये ऊँट सवारियां ढोने के लिए यूज किये जाते हैं. इनकी पीठ पर बना कूबड़ पिरमिट जैसा होता है. इनकी ऊंचाई 7 फिट तक होती है.

बक्ट्रियन (Bactrian)

इन्हें मंगोलियन ऊँट कहा जाता है. ये ऊँट आपको पहाड़ी इलाकों में देखने को मिल सकते है जहाँ पर बारिश बहुत ही कम होती है. इनकी पीठ पर दो कूबड़ होते हैं. इनकी हाइट लगभग 12 फिट तक हो सकती है. ये ऊँट सिर्फ में लद्दाख में पाए जाते हैं जहाँ पर भारतीय फ़ौज चीनी सीमा की चौकसी के समय इन ऊँटो का इस्तेमाल करती है.

इसके अलावा मंगोलियन ऊँट मध्य एशिया के देशों में भी पाए जाते है. आज के समय में ये ऊँट कम ऑक्सीजन वाले क्षेत्र में भी रह सकते हैं सभी लोगों ऐसा मानते हैं कि ऊँट अपने कूबड़ में पानी भर कर रखता है लेकिन ये सही नही है. ऊँट अपने कूबड़ में फैट स्टोर करके रखते है इसी फैट से गर्मी में भी ऊँटो को कई-कई दिनों तक बिना खाए या पानी पिये एनर्जी मिलती रहती है. लोग कहते हैं कि ऊँट 10 से 15 दिन तक बिना पानी पिए रह सकते है लेकिन नही, ऊँट 7 महीनों तक बिना पानी पिए रह सकते हैं.

ऊँटो के लम्बे पैर इनके शरीर को रेगिस्तान की गर्मी से दूर रखते हैं. जब ऊँट रेगिस्तान में बैठते है तो भी इन्हें गर्मी नही लगती है क्युकी जब ये बैठते हैं तो अपने घुटनों के बल बैठते हैं ऊँटो के घुटनों पर एक तरह का पैड बना होता है जिससे इन्हें गर्मी से कोई नुकसान नही होता है इनकी गर्दन भी इस तरह से बनी होती है कि बैठने के बाद भी इनका शरीर ऊपर उठा रहता है. रेगिस्तान में ऊँटो की चाल 60km प्रति घंटे होती है ऊँट के पैरों में दो अंगूठे होते हैं जिसे ये चलते समय फैला लेते हैं और आसानी से चल सकते हैं इनके पंजे गद्देदार होते है जिससे ये रेत में बहुत तेज दौड़ते हैं.

ऊँटो की आंख की भौंह लगभग 10cm लम्बी होती है जिससे इनके आँखों में धूल नही जाती है इनकी पलकें भी बड़ी होती हैं.

आज के समय में ऊँटो की संख्या में कमी आई है ये जानवर हमेशा इंसानों के साथ रहता है इसीलिए बिना इंसानों के संरक्षण के इनका जीवन मुश्किल है. भारत में ऊँटो का दूध बहुत कीमती होता है इसके दूध से डायबिटीज जैसी बीमारी में सहायता करता है लेकिन फिर भी इसका ज्यादा प्रोडक्शन नही हो पा रहा है.

इसे भी पढ़ें?

हमारा लीवर कैसे काम करता है? | लिवर का काम क्या होता है?

एयरप्लेन में थर्मामीटर ले जाने से क्या होगा?

भारत में हेलीकॉप्टर कैसे खरीदें? | हेलीकॉप्टर कैसे खरीदें

अगर प्लेन उड़ाते समय पायलेट सो जाये तो क्या होगा?

चीनी मिल में चीनी कैसे बनती है? | शक्कर सफेद क्यों होती है?

आज आपने क्या सीखा?

हमारी ये (Camel jahrile sanpo ko kyu khate hai)जानकारी आपको काफी पसंद आई होगी और इसमें हमने आपको बताया है कि ऊँट सांप क्यों खाते है और इससे रिलेटेड पूरी जानकारी दी है

हमारी ये (Camel jahrile sanpo ko kyu khate hai) जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट करके जरुर बताइयेगा और ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर भी कीजियेगा.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *