अग्निवीर भर्ती मेडिकल कैसे होगा? | कैसे होगा अग्निवीर भारती का मेडिकल?

agniveer bharti ka medical kaise hoga

अग्निवीर की भर्ती के बारे तो आपको पता ही होगा इसकी भर्ती में फिजिकल पूरा करने वाले कैंडिडेट को मेडिकल के लिए बुलाया जायेगा, इसमें कैंडिडेट के सभी अंगो को चेक किया जायेगा तो आइये आज इस आर्टिकल में हम आपको अग्निपथ भर्ती मेडिकल प्रोसेस के बारे में पूरी जानकारी देंगे.

अग्निवीर भर्ती मेडिकल कैसे होगा?

अग्निवीर भर्ती के मेडिकल में सबसे पहले कैंडिडेट का हाइट वेट और चेस्ट की जाँच की जाएगी और ये जाँच अलग-अलग राज्यों के हिसाब से अलग-अलग होती है उसके बाद कैंडिडेट के हाथ पैर बांह और टांग को अच्छी तरह से चेक किया जाएगा कि कहीं पर कोई हड्डी टूटी हुई तो नहीं है यह शरीर के किसी भी अंग का किसी तरह का कोई ऑपरेशन तो नहीं हुआ है.  इसके बाद एयर टेस्ट होगा जिसमे एक कैंडिडेट के दोनों कानों को अलग-अलग चेक किया जाएगा और देखा जायेगा कि कैंडिडेट के कान बहने,  मैल या कम सुनाई देने की कोई समस्या तो नहीं है और कानों का कोई किसी तरह का ऑपरेशन तो नहीं हुआ है आदि सभी को अच्छी तरह से चेक किया जाएगा.

agniveer bharti ka medical kaise hoga

उसके बाद आई टेस्ट होगा इसमें टॉर्च से दोनों आँखों को चेक किया जाएगा कैंडिडेट से आँखों की पुतलियों को घूमाने को कहा जाता है इसे चेक किया जाता है कि कैंडिडेट की आँखों में किसी तरह की कोई समस्या तो नहीं है आँखों मे कोई समस्या तो नहीं है और आँखों का कोई किसी तरह का ऑपरेशन तो नहीं हुआ है जिसके बाद कैंडिडेट से बोर्ड में छोटे और बड़े अक्षर पढ़ाये जाते हैं इसमें कैंडिडेट की आँखों की दृष्टि 6/6 से होनी चाहिए. इसके बाद कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट होगा जिसमें कैंडिडेट के रंगों को पहचानने की क्षमता को चेक किया जाएगा इस टेस्ट में कैंडिडेट के आगे एक बुक रखी रहती है जिसमें अलग-अलग रंग के गोले बने रहते हैं जिनके बीच में अलग-अलग रंग के ही नंबर लिखे होते है तो कैंडिडेट को उनमें से वह नंबर और उसका रंग देख के बताना होता है.

इसके बाद टीथ टेस्ट होगा इसमें कैंडिडेट के मुँह को चेक किया जाता है उसके दांत और जीभ को चेक किया जाएगा कि कहीं पर कोई बिमारी तो नहीं है दांतों में कोई समस्या तो नहीं है ये सभी चीजों को चेक किया जायेगा. उसके बाद नॉक कनी (Knock Knee) टेस्ट होता है इस टेस्ट में कैंडिडेट के घुटनों को चेक किया जाएगा जो बिल्कुल नॉर्मल होनी चाहिए, घुटनों के बीच में ना ज्यादा गैप होना चाहिए और ना ही ज्यादा आपस में मिलना चाहिए जिससे चलते समय दोनों घुटने आपस में टकराए. इसे रोकने की समस्या को ठीक किया जा सकता है जिसके लिए कई सारी एक्सरसाइज है इसके लिए अप ऑनलाइन जाकर चेक कर सकते हैं.

इसके बाद फ्लैट फिट (Flat Feet) टेस्ट होता है इसमें कैंडिडेट के पैरों के तलवों चेक किया जाएगा जो नार्मल होने चाहिए उनके बीच में हल्का सा गैप होना चाहिए ये कैब ज्यादा भी नहीं होना चाहिए और ना ही तलवा बिल्कुल सपाट होना चाहिए इसके लिए मेडिकल टेस्ट के दौरान कैंडिडेट को पानी में पैर भिगोकर सूखे फर्श पर चलने को कहा जाता है जिससे उसके तलवों के साफ निशान फर्श पर छप जाते हैं. उसके बाद प्राइवेट पार्ट टेस्ट भी होता है इसमें कैंडिडेट के सभी कपड़े उतरवा दिए जाते हैं जिसके बाद उसके गुप्तांगों की जांच की जाती है

उसमें कैंडिडेट के लिंग, गुदा, अंडकोश आदि की जांच की जाएगी और चेक किया जाता है कि कैंडिडेट के अंडकोश की नशों में किसी तरह की सूजन या बवासीर आदि की समस्या तो नहीं है इसके साथ ही कैंडिडेट का ब्लड और यूरिन टेस्ट लिया जाता है इसके साथ ही कैंडिडेट में हकलाने या तुतलाने जैसी कोई समस्या नहीं होनी चाहिए क्योंकि मेडिकल के दौरान कैंडिडेट से अखबार भी बनवाया जाएगा और कैंडिडेट में शुगर ब्लडप्रेशर टीवी जैसी कोई बिमारी नहीं होनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें?

अग्निवीर योजना क्या है?

अग्निवीर भर्ती में NCC कैंडिडेट को मिलने वाले फायदे क्या होंगे?

अग्निवीर भर्ती के लिए जरूरी डाक्यूमेंट्स कौन-कौन से है?

क्या दाढ़ी मूछ वाले नही दे पाएंगे अग्निपथ आर्मी भर्ती

अग्निवीर भर्ती का सिलेबस क्या होगा?

प्रदर्शनकारी नही दे पाएंगे अग्निवीर भर्ती?

अग्निवीर को क्या काम करना होगा?

अग्निपथ योजना से फायदा या नुकसान 

आज आपने क्या सीखा?

दोस्तों हम उम्मीद करते है कि हमारा ये (agniveer bharti ka medical kaise hoga) आर्टिकल आपको काफी पसंद आया होगा और आपके लिए काफी हेल्पफुल भी होगा क्युकी इसमें हमने आपको अग्निपथ भर्ती मेडिकल प्रोसेस से रिलेटेड पूरी इनफार्मेशन दी है

हमारी ये (agniveer bharti ka medical kaise hoga) जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट करके जरुर बताइयेगा और ज्यादा से ज्यादा लोगो के साथ भी जरुर शेयर कीजियेगा.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.